BREAKING NEWS

UP Budget 2022 : योगी सरकार ने महिला सुरक्षा, रोजगार और मेट्रो के लिए की घोषणा, जानिए खास बातें ◾J&K : शूटिंग पर जाने से मना किया तो टीवी कलाकार को मारी गोली, आतंकियों की तलाश में जारी है सर्च ऑपेरशन◾डिंपल यादव नहीं... जयंत चौधरी होंगे राज्यसभा जाने वाले तीसरे उम्मीदवार, SP-RLD के संयुक्त प्रत्याशी ◾महाराष्ट्र : परिवहन मंत्री अनिल परब के घर ED ने मारा छापा, सौमेया बोले- कैबिनेट के तीसरे मंत्री जेल...... ◾World Corona: 52.7 करोड़ नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें अब तक कितने लोगों ने गंवाई जान ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾अभ्यास बाद में करें खिलाड़ी, IAS अफसर को ट्रैक पर टहलाना है कुत्ता, जानिए क्या है मामला ◾योगी सरकार आज पेश करेगी अपने 2.O कार्यकाल का बजट, संकल्प पत्र में किए गए वादों पर रहेगा जोर ◾अफगानिस्तान : दो अलग-अलग विस्फोट में हुई 14 लोगों की मौत, ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾J&K: कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने ढेर किए LET के 3 आतंकी, 24 घंटे में 6 का हुआ सफाया ◾Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾

Share Market : शेयर बाजार में हाहाकार, 8 दिन में इन्वेस्टर्स ने गंवाए 26 लाख करोड़, जानें क्या है कारण

शेयर बाजार (Share market) में इन दिनों कोहराम मचा हुआ है। दुनियाभर के शेयर बाजारों में पिछले कुछ दिनों से चौतरफा बिकवाली (Sell Off) का दौर चल रहा है। इसका असर भारतीय शेयर बाजार पर साफ नजर आ रहा है, जिसका नतीजा यह है कि बिकवाली के कारण बीते 8 दिनों में इन्वेस्टर्स (Investors) ने शेयर मार्केट में करीब 26 लाख करोड़ रुपए गंवा दिए।

बाज़ारों के हालातों को देखते हुए इन्वेस्टर्स की नींद उड़ी हुई है। कोविड काल के बावजूद पिछले साल शेयर बाजार में जबरदस्त उछाल देखा गया था, लेकिन इस साल बढ़ती महंगाई के बीच बीते कई महीनों से डाउन हुआ शेयर बाजार उठने का नाम नहीं ले रहा। आसमान छूती महंगाई के बीच केंद्रीय बैंक ब्याज दरें बढ़ा रहे हैं। रिसर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) ने भी हाल ही में ब्याज दरें बढ़ा दी हैं। वहीं कोरोना महामारी की नई लहर की आशंका भी इन्वेस्टर्स को पीछे खींच रही है। 

 

सिर्फ एक दिन में 5 लाख करोड़ का नुकसान

कल यानी गुरुवार को बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) और एनएसई निफ्टी (NSE Nifty) दोनों 2-2 फीसदी से ज्यादा टूट गए थे। इस कारण इन्वेस्टर्स ने एक ही दिन में 5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा गंवा दिए थे। कल कारोबार में सेंसेक्स की 30 कंपनियों में से महज 2 विप्रो (Wipro) और एचसीएल टेक (HCL Tech) ही ग्रीन जोन में रह पाईं।

कारोबार के दौरान सेंसेक्स एक समय करीब 1,400 अंक तक गिर गया था. कारोबार समाप्त होने के बाद सेंसेक्स 1,158.08 अंक (2.14 फीसदी) के नुकसान के साथ 52,930.31 अंक पर बंद हुआ था। इसी तरह एनएसई निफ्टी 359.10 अंक (2.22 फीसदी) के नुकसान के साथ 15,808 अंक पर बंद हुआ था। बीते 1 महीने में सेंसेक्स 5,500 अंक टूट चुका है. निफ्टी भी बीते एक महीने में करीब 10 फीसदी गिरा है।

और गिर सकता है बाजार

दिग्‍गज निवेशक शरद शाह (Sharad Shah) शेयर बाजार में गिरावट के लिए यूक्रेन संकट, बढ़ती महंगाई और केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्‍याज दरों में की जा रही बढ़ोतरी को जिम्मेदार मान रहे हैं। इसके आलावा वह कंपनियों की ओवर वैल्‍यूएशन को भी बाज़ारों के इन हालातों का कारण मान रहे हैं।

शाह का कहना है कि बाजार में गिरावट अभी थमने वाली नहीं है। बाजार आगे और गोता लगा सकता है। मिडकैप और स्‍मॉलकैप शेयरों पर मंदी की सबसे ज्‍यादा मार पड़ेगी। एक इंटरव्‍यू में शरद शाह ने कहा कि बाजार में बहुत से ऐसे कारण मौजूद हैं जो आगे और गिरावट की तरफ इशारा कर रहे हैं।

कंपनियों के फंडामेंटल की तुलना में शेयरों की कीमतों का बहुत अधिक होना, कमजोर रुपया, कंपनियों की कमजोर कमाई और अमेरिकी मार्केट में जारी भारी बिकवाली भारतीय बाजार पर आगे भी दबाव बनाए रखेगी।