BREAKING NEWS

बिहार : प्रशांत किशोर बोले- नीतीश कुमार मेरे पिता के समान◾लापता नहीं हुआ आतंकी मसूद अजहर, कड़ी सुरक्षा के बीच परिवार के साथ पाक में ही छिपा बैठा है◾विदेश मंत्री जयशंकर ने यूरोपीय संघ के नेताओं से की मुलाकात, विभिन्न मुद्दों पर की बात◾कोरोना वायरस से चीन में 1,868 लोगों की मौत, लगातार बढ़ रही मरने वालों की संख्या ◾मुख्यमंत्री केजरीवाल बोले- दिल्ली में जल्द ही दूर होगी बसों की कमी◾स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को बोला-'बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना'◾केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾

छोटी कंपनियों के शेयरों ने दिया बेहतर रिटर्न

नई दिल्ली: शेयर बाजारों में गुजरते वर्ष 2017 में छोटे शेयरों का दबदबा रहा और निवेशकों को स्माल कैप सूचकांक में निवेश पर आकर्षक 60 प्रतिशत लाभ मिला जब कि मुंबई शेयर बाजार की 30 शीर्ष कंपनियों वाले सेंसेक्स में वर्ष के दौरान करीब 28 प्रतिशत लाभ रहा। एक विश्लेषण के अनुसार बंबई शेयर बाजार का छोटी कंपनियों के शेयरों पर आधारित सूचकांक (मिडकैप इंडेक्स) 7,184.59 अंक या 59.64 प्रतिशत लाभ में रहा। वहीं मझोली कंपनियों के शेयरों का सूचकांक 5,791.06 अंक सर 48.13 प्रतिशत मजबूत हुआ। वहीं दूसरी तरफ 30 शेयरों वाला प्रमुख कंपनियों का सेंसेक्स 2017 में 7,430.37 अंक या 27.91 प्रतिशत लाभ में रहा।

कोटक सिक्योरिटीज के मिडकैप मामलों के प्रमुख आर ओजा ने कहा, सेंसेक्स के मुकाबले लघु एवं मझोली कंपनियों के सूचकांक का प्रदर्शन बेहतर रहा। इसका मुख्य कारण घरेलू पूंजी का म्यूचुअल फंड में प्रवाह है। मिडकैप सूचकांक 29 दिसंबर को अबतक सर्वकालिक रूंचाई 17,851.03 पर पहुंच गया जबकि स्मालकैप सूचकांक उसी दिन 19,262.44 अंक तक चला गया। तीस शेयरों वाला सूचकांक इस वर्ष 27 दिसंबर को 34,137.97 अंक पर पहुंच गया था। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य बाजार रणनीतिकार आनंद जेम्स ने कहा, वर्ष 2013 से पहले पांच साल तक वैश्विक अर्थव्यवस्था नरमी से निपटने में लगा था।

उस साल मिडकैप सूचकांक में 6 प्रतिशत की गिरावट आयी। इस अवधि के दौरान बड़े कंपनियों तथा बेहतर प्रबंधन वाली कंपनियों ने चीजों को था। यही कारण है कि निफ्टी जैसे मानक सूचकांकों ने छोटी कंपनियों को पीछे छोड़ दिया था। उन्होंने कहा, वर्ष 2014 के बाद से केंद्र में स्थिर सरकार, व्यापार आशावाद में उल्लेखनीय सुधार है।

इससे बुनियादी ढांचा परियोजनाओं तथा संबद्ध सुधारों पर बल मिला इसका अर्थव्यवस्था पर गुणक प्रभाव पड़ा। न केवल जमीन-जायदाद, बुनियादी ढांचा, आवास, निर्माण से जुड़े क्षेत्र में तेजी रही बल्कि बेहतर दिनों की उम्मीद भी बढ़ी। जेम्स ने कहा, इसीलिए इन क्षेत्रों खासकर छोटी एवं मझोली कंपनियों के शेयरों को खरीदार मिले। अबतक ये भविष्य की बेहतर संभावना के अभाव में इन पर गौर नहीं किया जाता था।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यह क्लिक करें।