BREAKING NEWS

'विश्व शांति सम्मेलन' में हिस्सा नहीं ले पाएंगी ममता, दीदी ने केंद्र सरकार के निर्णय पर जताई आपत्ति◾तालिबान ने शुरू की हैवानियत, मुख्य चौराहे पर शव को क्रेन से लटका कर दी सजा ◾नकवी का कांग्रेस पर तंज- वोटों के ‘सियासी सौदागरों’ ने आजादी के बाद 75 वर्षों तक अल्पसंख्कों को दिया धोखा◾पंजाब में बदलाव का दौर जारी, छुट्टी पर गए DGP, अब इकबाल सिंह सहोता को मिला चार्ज◾कैप्टन के करीबियों को नहीं मिली चन्नी केबिनेट में जगह, सात नए चेहरे के शामिल होने की संभावना◾हमारा मकसद राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रणनीतिक संबंध बनाना : राजनाथ सिंह◾भारत और अमेरिका का तालिबान से आग्रह- अफगानों के मानवाधिकारों का सम्मान करते हुए प्रतिबद्धताओं को करें पूरा◾भारत-US ने 26/11 हमले के दोषियों पर कार्रवाई का किया आह्वान, कहा- आतंकवाद के खिलाफ एक साथ खड़े हैं◾BJP अध्यक्ष नड्डा बोले- PM मोदी के नेतृत्व में बदल रही है भारत की तस्वीर, तेजी से हो रहा विकास◾इमरान खान का अंतरराष्ट्रीय समुदाय से गुहार- तालिबान नीत अफगानिस्तान सरकार को दी जाए मान्यता ◾रोहिणी कोर्टरूम शूटआउट मामले की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस, परिसर के बाहर पुलिस बल तैनात ◾बाइडन की मोदी के साथ पहली बैठक से अमेरिकी संसद उत्साहित, क्वाड शिखर वार्ता का किया स्वागत ◾केरल में कांग्रेस को लगा एक और बड़ा झटका, प्रमुख नेता वी.एम. सुधीरन ने पीएसी छोड़ी ◾भाजपा जनसंख्या के अनुपात में पिछड़े वर्ग को हक़ नहीं देना चाहती : अखिलेश यादव ◾देशभर में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 29616 नए केस की पुष्टि, 290 लोगों की मौत◾क्वाड नेताओं ने बिना नाम लिए पाकिस्तान को लताड़ा, 'पर्दे के पीछे से आतंकवाद’ के इस्तेमाल की निंदा की◾जानिए कौन है स्नेहा दुबे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे पर की इमरान की बोलती बंद◾विश्व में जारी है कोरोना महामारी का प्रकोप, संक्रमितों का आंकड़ा 23.11 करोड़ से अधिक ◾UNGA में भारत का इमरान खान को मुंहतोड़ जवाब- पाकिस्तान तुरंत POK को खाली करे◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे न्यूयॉर्क, आज UNGA के 76वें अधिवेशन को करेंगे संबोधित ◾

वित्त मंत्री सीतारमण का निर्देश- GST कलेक्शन में स्थाई रूप से हो वृद्धि, 8 महीनों से राजस्व 1 लाख करोड़ के पार

भारतीय जनता पार्टी की नेता और केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को यानी आज कहा कि हाल के महीनों में राजस्व संग्रह में वृद्धि अब स्थाई रूप से होनी चाहिए। उन्होंने साथ ही वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में धोखाधड़ी से निपटने के लिए कर अधिकारियों की सराहना की। जीएसटी की चौथी वर्षगांठ पर कर अधिकारियों को भेजे संदेश में वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि पिछले 4 वर्षों में करदाताओं का आधार 66.25 लाख से लगभग दोगुना होकर 1.28 करोड़ हो गया है। उन्होंने कहा कि लगातार 8 महीनों से जीएसटी राजस्व 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक है और अप्रैल 2021 में 1.41 लाख करोड़ रुपये का रिकॉर्ड जीएसटी राजस्व संग्रह देखा गया।

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, ‘‘पिछले साल सुविधा और प्रवर्तन दोनों क्षेत्र में सराहनीय काम किया गया है, जिसमें धोखाधड़ी करने वाले डीलरों और आईटीसी के कई मामले दर्ज किए गए। हाल के महीनों में बढ़ा हुआ राजस्व संग्रह अब स्थाई रूप से होना चाहिए।’’ वित्त मंत्री ने कोविड-19 महामारी की चुनौतियों के बीच जीएसटी कार्यान्वयन पर संतोष व्यक्त किया और करदाताओं को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने जीएसटी लागू करने के लिए केंद्र और राज्य, दोनों के कर अधिकारियों की सराहना की। उन्होंने कहा कि भारत जैसे बड़े और विविधता वाले देश में बड़े पैमाने पर किया जाने वाला कोई भी सुधार बेहद चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

वित्त मंत्रालय 54,000 से अधिक जीएसटी करदाताओं को सही समय पर रिटर्न दाखिल करने और कर का नकद भुगतान करने पर प्रशंसा प्रमाणपत्र जारी कर उन्हें सम्मानित करेगा। पहचान किये गये इन करदाताओं में 88 प्रतिशत से अधिक सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमी है। इसमें सूक्ष्म (36 प्रतिशत), लघु (41 प्रतिशत) और मध्यम श्रेणी के उद्यमी (11 प्रतिशत) शामिल हैं। ये उद्यमी विभिन्न राज्यों और संघ शासित प्रदेशों से हैं जहां यह माल की आपूर्ति और सेवा प्रदाता कार्य करते हैं। केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) इन करदाताओं को प्रशंसा प्रमाणपत्र जारी करेगा।

मंत्रालय ने कहा है कि जीएसटी व्यवस्था लागू होने के बाद से अब तक 66 करोड़ से अधिक रिटर्न दाखिल की गई हैं। जीएसटी के तहत दरें कम होने से कर अनुपालन बढ़ा है। इस दौरान जीएसटी राजस्व में धीरे धीरे वृद्धि होती रही और पिछले आठ महीने से यह लगातार एक लाख करोड़ रुपये से ऊपर बना हुआ है। देश में एक जुलाई 2017 को जीएसटी व्यवस्था लागू की गई।अप्रत्यक्ष करों के क्षेत्र में एक बड़े बदलाव के तौर पर इस व्यवस्था को शुरू किया गया। जीएसटी में केन्द्र और राज्यों के स्तर पर लगाने वाले उत्पाद शुल्क, सेवा कर, वैट और 13- उपकर जैसे कुल 17 तरह के करों को समाहित किया गया है।