BREAKING NEWS

Covid-19 : महाराष्ट्र में कोरोना से अबतक 19 की मौत, कुल पॉजिटिव मामले 416◾राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 170 से अधिक FIR दर्ज - DP◾सोनिया ने लॉकडाउन पर उठाए सवाल तो भड़की BJP, शाह- नड्डा ने किया पलटवार◾मजनू का टीला गुरुद्वारे में रूके थे 225 लोग, गुरुद्वारे के प्रबंधकों पर पुलिस ने किया मामला दर्ज ◾कोरोना संकट : पीएम मोदी कल सुबह 9 बजे वीडियो जारी कर देशवासियों को देंगे संदेश◾24 घंटे में कोरोना के 328 नए मामले आए सामने, तबलीगी जमात से जुड़े 9000 लोगों को किया गया क्वारंटाइन : स्वास्थ्य मंत्रालय◾FIR दर्ज होते ही बदले मौलाना साद के तेवर, समर्थकों से की सरकार का सहयोग करने की अपील◾PM मोदी के साथ मीटिंग के बाद अरुणाचल प्रदेश CM बोले- लॉकडाउन समाप्त होने के बाद भी बरतें सावधानी◾सभी मुख्यमंत्रियों को PM मोदी का आश्वासन - कोरोना संकट को लेकर हर राज्य के साथ खड़ी है केंद्र सरकार◾इंदौर में स्वास्थ्य कर्मियों पर हमला करने के मामले में 4 लोग गिरफ्तार, कई अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज◾देश में कोरोना से मरने वालों की संख्या हुई 50, संक्रमित लोगों की संख्या में हुआ इजाफा ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तीन और मामले सामने आए, कुल संख्या 338 पर पहुंची ◾कोरोना वायरस : दुनिया भर में 925,132 लोगों में संक्रमण की पुष्टि, 46,291 लोगों की अब तक मौत◾पद्म श्री से सम्मानित स्वर्ण मंदिर के पूर्व ‘हजूरी रागी’ की कोरोना वायरस के कारण मौत ◾मध्य प्रदेश में कोरोना के 12 नए पॉजिटिव केस आए सामने, संक्रमितों की संख्या हुई 98 ◾कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए PM मोदी आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ करेंगे चर्चा ◾Coronavirus : अमेरिका में कोविड -19 से छह सप्ताह के शिशु की हुई मौत◾कोविड-19 : संक्रमण मामलों में एक दिन में दर्ज की गई सर्वाधिक बढ़ोतरी, संक्रमितों की संख्या 1,834 और मृतकों की संख्या 41 हुई◾ट्रंप ने दी ईरान को चेतावनी, कहा- अमेरिकी सैनिकों पर हमला किया तो चुकानी पड़ेगी भारी कीमत ◾NIA करेगी काबुल गुरुद्वारे हमले की जांच, एजेंसी ने किया पहली बार विदेश में मामला दर्ज ◾

शेयर बाजारों में चार दिन से जारी गिरावट थमी, सेंसेक्स 1,627 अंक उछला

शेयर बाजारों में पिछले चार दिनों से जारी गिरावट पर शुक्रवार को विराम लगा और बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 1,627 अंक उछलकर 29,915.96 अंक पर पहुंच गया। कोरोना वायरस से फैली महामारी के कारण अर्थव्यवस्था के समक्ष आसन्न संकट से जूझने के लिये दुनिया भर की सरकारें राहत उपायों की घोषणा कर रही हैं। 

इससे वैश्विक बाजारों को राहत मिली और घरेलू शेयर बाजारों में तेजी आयी। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 2,485 अंक से अधिक की उथल-पुथल के बाद अंतत: 1,627.73 अंक यानी 5.75 प्रतिशत की बढ़त लेकर 29,915.96 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान इसने 30,418.20 अंक के उच्च स्तर और 27,932.67 अंक के निचले स्तर को छुआ। इसी तरह एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) का निफ्टी भी 482 अंक यानी 5.83 प्रतिशत की छलांग के साथ 8,745.45 अंक पर बंद हुआ।

 विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस संक्रमण से हो रहे आर्थिक नुकसान को कम करने के लिये वित्तीय कार्यबल गठित करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद राहत पैकेज को लेकर उम्मीदें बढ़ गयी हैं। इससे घरेलू बाजार में धारणा को बल मिला। सेंसेक्स की कंपनियों में ओएनजीसी में सर्वाधिक तेजी रही और इसका शेयर करीब 18 प्रतिशत चढ़ गया। इसके बाद हिंदुस्तान यूनिलीवर, अल्ट्राटेक सीमेंट, रिलायंस इंडस्ट्रीज, टीसीएस, एचडीएफसी, आईटीसी और एशियन पेंट्स में भी तेजी रही। सिर्फ एचडीएफसी बैंक और इंडसइंड बैंक के शेयर गिरावट में रहे। 

प्रधानमंत्री मोदी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अगुवाई में एक कार्य बल गठित करने की बृहस्पतिवार को घोषणा की। यह कार्य बल कोरोना वायरस महामारी की स्थिति का आकलन करने के बाद निकट भविष्य में आवश्यक कदमों की घोषणा करेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, शुक्रवार को देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 195 पहुंच गयी। विशेषज्ञों का मानना है कि यह कार्य बल शीघ्र ही कुछ ठोस प्रस्ताव के साथ सामने आ सकता है।

 जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी.के. विजयकुमार ने कहा कि इसके लिये कच्चा तेल की कीमतें कम होने से हो रही बचत का इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की अपील शुरुआत है और इसके बाद ठोस कदम उठाये जा सकते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, दुनिया भर में सरकारों द्वारा राहत पैकेज की घोषणा करने के बाद वैश्विक स्तर पर शेयर बाजारों में धारणा में सुधार हुआ है। 

चीन का शंघाई कंपोजिट, हांगकांग का हैंगसेंग और दक्षिण कोरिया का कोस्पी सात प्रतिशत तक की तेजी में बंद हुआ। यूरोपीय बाजार शुरूआती कारोबार में पांच प्रतिशत तक की तेजी में चल रहे थे। इस बीच रुपया छह पैसे की गिरावट में चल रहा था।