BREAKING NEWS

Money Laundering Case: सत्येंद्र जैन की जमानत याचिका पर ED को समन, HC ने दो हफ्ते में मांगा जवाब◾दो घंटे तक चले नार्को टेस्ट में आरोपी आफताब ने उगले ये रहस्यमयी राज! यहां देखिये क्या थे पुलिस के बड़े सवाल◾मुंबई : live stream कर रही कोरियाई महिला से छेड़छाड़, जबरन Kiss करने की कोशिश, 2 आरोपी गिरफ्तार◾सानिया मिर्जा से तलाक के बाद क्या होगा शोएब मलिक का प्लान? शादी की अफवाहों को लेकर आयशा ने तोड़ी चुप्पी◾हिंद महासागर में भारत के लिए खतरा बन रहा है चीन, US की डिफेंस एनुअल रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे◾Sunanda Pushkar Death Case : शशि थरूर की बढ़ेंगी मुश्किलें, दिल्ली पुलिस की अपील पर कोर्ट ने भेजा नोटिस◾MCD Election : BJP के प्रचार के लिए मैदान में 17 केंद्रीय मंत्री, केजरीवाल ने ली चुटकी◾गुजरात : कलोल से PM मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कहा- चल रही है प्रधानमंत्री को गाली देने की होड़◾दिल्ली : जज का महिला कर्मचारी संग अश्लील MMS वायरल , HC ने सस्पेंड कर सरकार को दिया ये आदेश◾AAP के गोपाल इटालिया का आरोप - 'जानबूझकर स्लो वोटिंग करा रहा है EC, एक बच्चे को हराने के लिए इतना मत गिरो '◾Gujarat Assembly Election: PM मोदी आज अहमदाबाद में रोड शो से पहले कई जनसभाओं को भी करेंगे संबोधित◾LAC पर सैन्य चौकियां बना रहा है चीन, आक्रामक रुख पर अमेरिकी सांसद का बड़ा बयान◾राहुल गांधी को मिला अभिनेत्री स्वरा भास्कर का साथ, Bharat Jodo Yatra में दिग्गज नेताओं के साथ हुईं शामिल◾दूल्हे ने स्टेज पर किया KISS ..तो दुल्हन ने तोड़ी शादी, बोली-इनका चरित्र ठीक नहीं◾अमेरिका में VR Headset नहीं खरीदने पर 10 साल के बच्चे ने की अपनी मां हत्या◾गुजरात : मतदान से पहले BJP उम्मीदवार पर जानलेवा हमला, कांग्रेस पर लगा गंभीर आरोप◾Shraddha Murder Case: नार्को में सवालों के जवाब उगलेगा आफताब, अस्पताल के बाहर कड़ी सुरक्षा◾गुजरात चुनाव 2022 : जानिये कौन है साइकिल पर गैस सिलेंडर लेकर वोट डालने पहुंचे कांग्रेस उम्मीदवार◾श्रद्धा मर्डर केस : आज होगा आफताब का नार्को टेस्ट, आरोपी को अंबेडकर अस्पताल लेकर पहुंची पुलिस◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में 291 नए मामले दर्ज, उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 4,767 ◾

AGR बकाया वसूली मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को दिवालिया कंपनियों से समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) बकाया की वसूली के मुद्दे पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ द्वारा तीन मामलों पर फैसला सुनाए जाने की संभावना है। इनमें पहला मामला- केंद्र की याचिका, जिसमें एजीआर के भुगतान के लिए 20 साल देने की मांग की गई है-क्या आईबीसी के तहत कंपनियों द्वारा स्पेक्ट्रम को हस्तांतरित या बेचा जा सकता है।

एयरटेल के पास वीडियोकॉन और एयरसेल के साथ स्पेक्ट्रम शेयरिंग और ट्रेडिंग पैक्ट्स थे, जबकि जियो आरकॉम के साथ था। अदालत ने दूरसंचार विभाग (डीओटी) से स्पेक्ट्रम-बंटवारे की पृष्ठभूमि में एयरटेल और जियो के खिलाफ देनदारियों को बढ़ाने के लिए 'डिमांड अंडर प्रोसेस' का विवरण साझा करने के लिए कहा था। न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर और एम. आर. शाह की पीठ ने माना कि अगर डीओटी एजीआर मांगों पर सही स्थिति प्रदान नहीं करता है, तो आंकड़े गलत हो सकते हैं। पीठ ने कहा कि एजीआर के फैसले को लगभग 10 महीने हो गए हैं, फिर डीओटी ने अभी तक मांग क्यों नहीं की?

डीओटी ने पीठ को सूचित किया कि जियो और एयरटेल के खिलाफ आरकॉम और विडियोकॉन के आंशिक बकाया के लिए कोई मांग नहीं की गई है और पिछले बकाया के लिए जियो और एयरटेल की देयता प्रक्रिया में है। आरकॉम के लिए कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने पीठ के सामने दलील दी कि अगर कंपनी चाहे तो स्पेक्ट्रम को इस्तेमाल करने का अधिकार एक 'बेची जा सकने वाली संपत्ति' है। साल्वे ने कहा कि रिजॉल्यूशन योजना स्पेक्ट्रम के उपयोग के अधिकार की बिक्री का प्रस्ताव करती है, जो लाइसेंस ट्रेडिंग दिशानिदेशरें के अनुरूप है।

एयरटेल की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि अगर वीडियोकॉन की पिछले बकाया की देनदारी एयरटेल पर लाद दी गई, तो फिर इतने लंबे समय तक इंतजार क्यों किया गया। उन्होंने दलील दी कि इसके बजाय डीओटी को इसे बहुत पहले स्पष्ट करना चाहिए था। बता दें कि एजीआर दूरसंचार विभाग की ओर से टेलीकॉम कंपनियों से ली जाने वाली एक लाइसेंसिंग फीस है और इन कंपनियों पर एजीआर के तहत करोड़ों रुपये बकाया हैं।