BREAKING NEWS

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में पार्टी के सफाए से राहुल गांधी ज्यादा नाराज !◾अमेठी : सुरेंद्र सिंह के भाई ने बताया- राजनीतिक रंजिश में हुई हत्या◾शारदा घोटाला : सीबीआई ने जारी किया राजीव कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस ◾ISIS की नौकाओं को लेकर खुफिया सूचना के बाद केरल के तटवर्ती इलाकों में हाई अलर्ट ◾मंत्री बनना चाहती हैं हेमा मालिनी◾मोदी की जीत पर विश्व नेताओं की बधाई का जारी है सिलसिला◾ये नए भारत का, नया उत्तर प्रदेश बनाने का जनादेश : योगी आदित्यनाथ◾नरेंद्र मोदी ने उपराष्ट्रपति नायडू से की मुलाकात, बताया शिष्टाचार भेंट◾बिहार : राजद को अब बदलनी होगी जातिवाद की रणनीति !◾प्रचंड जीत के बाद मां हीराबेन से मिलने जाएंगे मोदी, पटेल की मूर्ति पर करेंगे माल्यार्पण◾नरेंद्र मोदी की सांसदों को नसीहत, बोले- छपास एवं दिखास से बचिए, मिठास रखिए ◾केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के करीबी पूर्व ग्राम प्रधान सुरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या◾भाजपा बंगाल में सांप्रदायिक जहर फैलाकर जीती : ममता◾मतदाताओं और कार्यकर्ता का धन्यवाद करने वायनाड जायेंगे राहुल◾केरल के तटों पर हाई अलर्ट, ISIS के 15 आतंकवादी भारत में घुसने की फिराक में - खुफिया रिपोर्ट◾ममता के इस्तीफे की पेशकश को बीजेपी ने बताया 'नाटक' ◾सोनिया गांधी ने जीत के लिए अपने संसदीय क्षेत्र की जनता एवँ सपा-बसपा के कार्यकर्ताओं का आभार किया व्यक्त◾राज्य के विशेष दर्जा को बरकरार रखने के लिए एनसी लड़ेगी लड़ाई : फारूक अब्दुल्ला◾2019 के जनादेश ने लोकतंत्र को परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण के नासूरों से निकाला : शाह◾जनता का आभार जताने सोमवार को वाराणसी जाएंगे मोदी◾

व्यापार

अमेरिकी उत्पादों पर जवाबी आयात शुल्क लगाने की समयसीमा बढ़ेगी

नई दिल्ली : अमेरिका से भारत में आयात किये जाने वाले उत्पादों पर जवाबी शुल्क लगाने की समयसीमा एक माह और आगे खिसक सकती है। भारत ने अमेरिका से आयात होने वाले 29 उत्पादों की शुल्क बढ़ाने के लिये पहचान की है। इसमें अखरोट, बादाम और दालें शामिल हैं। इस संबंध में पिछली बार बढ़ाई गई समयसीमा 16 मई को समाप्त हो रही है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी देते हुये कहा कि वाणिज्य मंत्रालय ने इस संबंध में वित्त मंत्रालय को समयसीमा बढ़ाने के बारे में जरूरी अधिसूचना जारी करने के लिये कहा है। पिछले साल जून 2018 के बाद से अमेरिका से आयात होने वाले सामान पर जवाबी शुल्क लगाने के बारे में समयसीमा को कई बार बढ़ाया जा चुका है।

अमेरिका ने पिछले साल भारत सहित विदेशों से आयात होने वाले इस्पात और एल्यूमीनियम के उत्पादों पर ऊंचा सीमा शुल्क लगा दिया था। इसी के जवाब में भारत ने भी अमेरिका से आयात होने वाले कुछ उत्पादों पर सीमा शुल्क बढ़ाने का फैसला किया लेकिन इसे अभी तक लागू नहीं किया गया। भारत ने यह फैसला ऐसे समय किया है जब अमेरिका ने भारतीय निर्यातकों को दी गई सामान्यीकृत तरजीही व्यवस्था (जीएसपी) के फायदों को वापस लेने का फैसला किया है।

अमेरिका ने इस मामले में 60 दिन का नोटिस दिया था जो कि दो मई को समाप्त हो गया लेकिन अभी तक प्रणाली के तहत दिये गये लाभ वापस नहीं लिये गये। अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विलबर रॉस और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु की यहां छह मई को द्विपक्षीय बैठक हुई जिसमें व्यापार से जुड़े मुद्दों पर बातचीत हुई। अमेरिका मानता है कि भारत में कागज और हर्ले डविडसन मोटरसाइकिल जैसे उसके उत्पादों पर ऊंचा आयात शुल्क लगाया जाता है।

अमेरिका भारत में अपने कृषि उत्पादों, डेयरी सामान, चिकित्सा उपकरणों के लिये शुल्कों में कटौती चाहता है। दूसरी तरफ भारत चाहता है कि अमेरिका उसके इस्पात और एल्यूमीनियम उत्पादों पर लगाया गया ऊंचा शुल्क वापस ले तथा कृषि, आटोमोबाइल कलपुर्जों के लिये अमेरिका बाजार को अधिक खुला बनाये।