नई दिल्ली : सरकारी क्षेत्र के बैंक ऑफ महाराष्ट्र (बीओएम) ने 153.77 करोड़ रुपये के ऋण वसूली के लिए वीडियोकॉन समूह की इकाई यूनिटी अप्लायंसेस की चल और अचल संपत्तियों को ब्रिकी के लिए रखा है। यूनिटी अप्लायंसेस लिमिटेड पर 5 जनवरी 2018 से 153.77 करोड़ रुपये और ब्याज का पैसा बकाया है। कंपनी तमिलनाडु में कारखाना चलाती है। यूनिटी अप्लायंसेस एसी और एलई और एलसीडी टीवी बनाती है। बैंक की ओर से जारी सार्वजनिक नोटिस के मुताबिक, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज और उसके प्रवर्तक वेणुगोपाल धूत और पीएन धूत यूनिटी अप्लायंसेस के गारंटर है।

कंपनी की संपत्ति की ई-नीलानी 30 मार्च 2019 को होगी। जमीन का आरक्षित मूल्य 42.34 करोड़ रुपये है और मशीनरी एवं संयंत्र का आरक्षित मूल्य 72.82 करोड़ रुपये रखा गया है। बैंक ने यूनिटी अप्लायंसेस लिमिटेड की संपत्तियों की बिक्री के लिए दूसरी बार ई – नीलामी का नोटिस जारी किया है। इससे पहले पिछले साल जनवरी में वित्तीय आस्तियों के प्रतिभूतिकरण तथा पुनर्निर्माण एवं प्रतिभूति हित प्रवर्तन अधिनियम, 2002 के तहत नोटिस जारी किया गया था।

वीडियोकॉन समूह उन 28 बड़ी डिफॉल्टरों में शामिल है, जिनका जिक्र रिजर्व बैंक ने अपनी दूसरी सूची में किया है। आरबीआई की आंतरिक परामर्श समिति ने जून 2017 में ऐसे 12 खातों की पहचान की है, जिन पर 5000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है और बैंक के कुल एनपीए में इनकी हिस्सेदारी 25 प्रतिशत है।