BREAKING NEWS

नीतीश नहीं तेजस्वी यादव के हाथों में होगी बिहार की बागडोर? राजद नेताओं ने कर दिया ऐलान ◾ '... जाके कछु नहीं चाहिए, वे शाहन के शाह', दिग्विजय सिंह के इस tweet के क्या हैं मायने?◾Amazing स्पीड के साथ...No बफरिंग, 10 गुना होगी इंटरनेट की रफ्तार, देश में लॉन्च हुई 5G सर्विस◾दिल्ली : पुरानी आबकारी नीति से मालामाल हुई दिल्ली सरकार, एक महीने में कमाए 768 करोड़◾Pitbull का बढ़ता कहर, अब पंजाब में एक रात एक अंदर 12 लोगों को बनाया शिकार◾RBI Hike Repo Rate : ग्राहकों को लगा बड़ा झटका, रेपो रेट के बाद SBI समेत इन बैंकों में बयाज दर में बढ़ोतरी◾अशोक गहलोत का बड़ा खुलासा, जानिए अंतिम समय में क्यों अध्यक्ष पद चुनाव लड़ने से किया मना◾दिल्ली : हैवानियत का शिकार हुआ मासूम हारा जिंदगी की जंग, LNJP अस्पताल में 14 दिन बाद मौत◾कोविड19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना संक्रमण के 3,805 नए मामले दर्ज़, 26 मरीजों मौत ◾अजब प्रेम की गज़ब कहानी : पाकिस्तान की लड़की को हुई नौकर से मोहब्बत, कहा- प्यार अमीर-गरीब नहीं देखता ◾उत्तराखंड : केदारनाथ मंदिर के पास खिसका बर्फ का पहाड़, देखें Video◾LPG Price Update : 25.5 रुपए की कटौती के साथ सस्ता हुआ कमर्शियल LPG गैस सिलेंडर◾मल्लिकार्जुन खड़गे के समर्थन में उतरे गहलोत, जानिए अध्यक्ष पद चुनाव को लेकर क्या कहा ◾आखिरकार क्यों अध्यक्ष पद चुनाव से कटा दिग्विजय सिंह का पत्ता? जानिए हाईकमान ने खड़गे के नाम पर कैसे लगाई मुहर◾आज का राशिफल (01 अक्टूबर 2022)◾RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾

क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ

 देश की इकोनॉमी ने सितंबर तिमाही में रफ्तार पकड़ ली है। ताजा आंकड़े बताते हैं कि जुलाई-सितंबर की अवधि के दौरान सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 8.4 फीसदी की दर से वृद्धि हुई है। बीते साल की समान अवधि में विकास दर निगेटिव में 7.4 फीसदी थी। वहीं, चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही यानी अप्रैल से जून के बीच जीडीपी ग्रोथ 20.1 फीसदी रही थी। ये बढ़ोतरी संकुचन के बाद की थी। दरअसल, कोरोना की पहली लहर की वजह से जीडीपी निगेटिव में थी, यही वजह है कि जून तिमाही में इतनी बड़ी बढ़त देखी गई । इसके साथ मैन्युफैक्चरिंग और कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी रिकवरी आई थी।

दूसरी तिमाही GDP आंकड़ों पर एक नज़र

वित्त वर्ष 2019-20 की जुलाई-सितंबर तिमाही के मुकाबले देश की जीडीपी ग्रोथ -7.4 फीसदी से बढ़कर 8.4 फीसदी हो गई है। वहीं, मौजूदा वित्त वर्ष की पहली (अप्रैल-जून) तिमाही के मुकाबले जीडीपी ग्रोथ 20.1 फीसदी से गिरकर 8.4 फीसदी पर आ गई है।

एग्रीकल्चर ग्रोथ 3 फीसदी से बढ़कर 4.5 फीसदी हो गई है। मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ -1.5 फीसदी से बढ़कर 5.5 फीसदी हो गई है। कंस्ट्रक्शन ग्रोथ -7.2 फीसदी से बढ़कर 7.5 फीसदी पर पहुंच गई है।

राजकोषीय घाटा सालाना आकलन का 36.3%

अप्रैल-अक्टूबर के दौरान राजकोषीय घाटा पूरे साल के लक्ष्य के 36.3 फीसदी पर रहा है। कुल टैक्स रिसिप्ट 10.53 करोड़ रुपये रहा है। जबकि कुल खर्च 18.27 लाख करोड़ रुपये रहा है। सरकार ने इस साल राजकोषीय घाटा 6.8 फीसदी पर रहने का अनुमान लगाया था। पिछले साल की समान अवधि में फिजकल डेफिसिट यानी खर्च और रेवेन्यू के बीच अंतर 2020-21 के बजट आकलन का 119.7 फीसदी रहा था।

डेफिसिट अक्टूबर के आखिर में, 5,47,026 करोड़ रुपये रहा है। सालाना आकलन 15.06 लाख करोड़ रुपये का था। 2020-21 के लिए राजकोषीय घाटा जीडीपी का 9.3 फीसदी था, जो फरवरी में बजट में अनुमानित 9.5 फीसदी से बेहतर था।

GDP को लेकर क्या था अनुमान?

ज्यादातर जानकारों ने दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 7.5 फीसदी और 8.5 फीसदी के बीच रहने का अनुमान लगाया था। रॉयटर्स के 44 अर्थशास्त्रियों के सर्वे में संकेत मिला था कि दूसरी तिमाही में भारत की अर्थव्यवस्था 8.4 फीसदी की दर से बढ़ने की उम्मीद है।RBI ने वित्त वर्ष 2022 में भारत की जीडीपी ग्रोथ 9.5 फीसदी पर रहने का अनुमान लगाया था। अगस्त में IIP ग्रोथ 11.9 फीसदी पर रही थी, जो जुलाई के 11.5 फीसदी के मुकाबले ज्यादा थी। वहीं, मैन्युफैक्चरिंग और सर्विसेज भी अच्छी रही थी।

रेटिंग एजेंसी ICRA का दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 8.3 फीसदी रहने का अनुमान है। वहीं, पूरे साल में 9.4 फीसदी पर रहने का अनुमान है। एजेंसी ने अच्छी ग्रोथ के पीछे लगातार नौ तिमाही में एग्रीकल्चर ग्रोथ 3 फीसदी से ज्यादा रहने को वजह बताया है। एजेंसी का कहना है कि इससे ग्राहकों का खर्च बढ़ेगा और यह निजी खपत में भी इजाफा होगा। वहीं, SBI रिसर्च में जीडीपी ग्रोथ करीब 8.1 फीसदी पर रहने का अनुमान लगाया था। जबकि GVA 7.1 फीसदी पर बताया गया था. उन्होंने कहा था कि भारत का दूसरी तिमाही में 8.1 फीसदी का ग्रोथ रेट सभी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे ज्यादा है।

इस साल सितंबर के महीने में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन इंडेक्स (IIP) में 4.4 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. यह आंकड़ा 126.7 पर रहा था। आपको बता दें कि GDP देश की भौगोलिक सीमाओं के अंदर एक निश्चित समय की अवधि के दौरान सामान और सेवाओं के उत्पादन की कूल वैल्यू होती है। GDP ग्रोथ रेट एक देश के आर्थिक प्रदर्शन का महत्वपूर्ण संकेतक होती है।