जर्मनी की दिग्गज कार कंपनी ऑडी के सीईओ रूपर्ट स्टैडलर को बर्लिन में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। स्टैडलर की गिरफ्तारी डीजल गाड़ियों की प्रदूषण परीक्षण प्रणाली में घोटाला करने के मामले में हुई है। ऑडी की पेरेंट कंपनी फाक्सवैगन के प्रवक्ता ने बताया है कि स्टैडलर की गिरफ्तारी सोमवार को हुई और कोर्ट में पेशी के बाद मामले में पूछताछ के लिए उन्हें रिमांड पर दे दिया गया है। गौरतलब है कि जहां पिछले साल पैरेंट कंपनी फॉक्सवैगन अपनी डीजल गाड़ियों के प्रदूषण स्तर को छिपाने के लिए सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल की दोषी पाई गई थी वहीं अब धोखाधड़ी का यह नया मामला उसकी ऑडी कार पर लग रहा है।

बीते महीने ऑडी के सीईओ रूपर्ट स्टैडलर ने माना था कि ऑडी ए6 और ए7 मॉडल की 60,000 कारों में प्रदूषण के स्तर को छिपाने के लिए सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है। हालांकि यह 60 हजार गाड़ियां उन 8 लाख 50 हजार गाडियों से अलग हैं जिसे कंपनी ने 2017 के दौरान प्रदूषण सॉफ्टवेयर में बदलाव के लिए रिकॉल किया था।

गौरतलब है कि डीजल गाडियों के सॉफ्टवेयर में बदलाव कर प्रदूषण छिपाने का खुलासा पहली बार सितंबर 2015 के दौरान हुआ था। जिसके बाद लंबी कानूनी प्रक्रिया के दौरान फॉक्सवैगन ने इस बात को माना था कि उसने अपनी 6 लाख फॉक्सवैगन कारों में साफ्टवेयर की मदद से प्रदूषण के स्तर को छिपाने की कोशिश की है।

इसके बाद फॉक्सवैगन के प्रमुख ने पूरी दुनिया से माफी मांगते हुए माना था कि उनकी कंपनी ने दुनियाभर में अपनी 1 करोड़ से ज्यादा गाड़ियों के सॉफ्टवेयर के साथ छेड़खानी करते हुए प्रदूषण टेस्ट पास करने की कोशिश की थी। जानकारों के मुताबिक कंपनी द्वारा सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल से कारों द्वारा किए जा रहे प्रदूषण को 40 गुना कम करके दर्शाया जाता है।

 

 

 

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।