एप्पल वॉच को लेकर जियो ने एयरटेल के खिलाफ शिकायत दर्ज की, एयरटेल ने आरोपों को खारिज किया 


नई दिल्ली : रिलायंस जियो ने भारती एयरटेल के खिलाफ दूरसंचार विभाग में शिकायत दर्ज कराई है कि एयरटेल एप्पल वॉच श्रृंखला 3 पर ई सिम सेवाओं की पेशकश कर रही है जो लाइसेंस नियमों का उल्लंघन है। जियो ने एयर टेल की इस सेवा को तत्काल बंद करने की मांग की है। एयरटेल ने जियो की इस शिकायत को खारिज करते हुए कहा कि इसमें कोई गंभीरता नहीं है। दूरसंचार विभाग को लिखे पत्र में जियो ने कहा , ‘‘ एप्पल वॉच श्रृंखला 3 सेवा की पेशकश एयरटेल द्वारा यूनिफाइड लाइसेंस शर्तों का उल्लंघन कर की जा रही है। ‘‘ इस बारे में भारती एयरटेल को भेजे ई – मेल का तत्काल जवाब नहीं मिल पाया। रिलायंस जियो और भारती एयरटेल दोनों 11 मई से अपने बिक्री चैनलों के माध्यम से एप्पल वॉच श्रृंखला 3 की पेशकश कर रही हैं।

इस बारे में संपर्क करने पर भारती एयरटेल के प्रवक्ता ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि यह एक झूठी शिकायत है। प्रवक्ता ने कहा कि यह जियो द्वारा एक और झूठी शिकायत है जिसका एकमात्र मकसद जो भी वे कर रहे है उसमें एकाधिकार जमाना है।भारती एयरटेल कानून का पालन करने वाली जिम्मेदार आपरेटर है। जियो की शिकायत है कि 11 मई को लिखे इस पत्र में जियो ने आरोप लगाया है कि एयरटेल ने इस मामले में ई – सिम के प्रावधान के लिए नोड भारत के अंदर स्थापित नहीं किए हैं। कंपनी का कहना है कि एयरटेल के एप्पल वॉच श्रृंखला -3 सेवाओं के लिए इस्तेमाल किए जा रहे जरूरी सर्वर विदेश में लगाए हैं , जो लाइसेंस की शर्तों का खुला उल्लंघन है। यूनिफाइड लाइसेंस के अनुसार कोई भी दूरसंचार कंपनी अपने सर्वर देश के बाहर नहीं लगा सकती।

उसका कहना है कि एयर टेल के ऐसे ग्राहक के एप्पल वॉच और आईफोन एक ही नंबर साझा करते हैं। ग्राहक ई – सिम के जरिये आईफोन और एप्पल वॉच दोनों का इस्तेमाल कर सकते हैं और अन्य उपकरणों की कॉल की स्थिति अलग से कॉल कर सकते हैं या रिसीव कर सकते हैं। ई – सिम को आईफोन के सिम के साथ वायरलेस के जरिए संयुक्त कर दिया जाता है। ई – सिम के परिचयस्थल के लिए प्रयोग में लाए जाने वाले नोड ( संपर्क बिंदु ) में नेटवर्क और प्रयोगकर्ता की जानकारी शामिल होती है। इसमें आपरेटर की पचाहन , सिम का विवरण , पिन , सिम की फाइलों को दूर बैठक कर नियंत्रित करने की व्यवस्था भी शामिल होती है। मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी का कहना है भारती एयरटेल को वैध तरीके से रोक या निगरानी का काम नहीं किया है। एयरटेल द्वारा सेवा शुरू करने से पहले इस तरह का महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना राष्ट्रीय सुरक्षा हितों से समझौता है। जियो ने यह भी आरोप लगाया है कि एयरटेल ने नेटवर्क के एक महत्वपूर्ण हिस्से को देश से बाहर लगाने का कार्य जानबूझकर किया है।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें।