नई दिल्ली : मोबाइल ऐप के जरिए ओला टैक्सी सेवा उपलब्ध वाली कंपनी एएनआई टेक्नोलॉजी की आय में तेज बढोतरी के बावजूद वर्ष 2016-17 में उसके घाटे में भारी वृद्धि हुई । कंपनी को वर्ष 2016-17 में 4,897.8 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। इससे एक साल पहले घाटा 3,147.9 करोड़ रुपये था। इस दौरान ओला की कुल आय में 70 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। ओला और उसकी प्रतिद्वंद्वी अमेरिकी कंपनी उबर के बीच भारतीय बाजार में जबरदस्त होड़ लगी है।

ओला की परिचालक एएनआई टेक्नोलॉजी की ओर से रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज में पेश दस्तावेजों के अनुसार उसकी ए कीकृत शुद्ध आय 2015-16 के 810.7 करोड़ रुपये से बढ़कर 2016-17 में 1,380.7 करोड़ रुपये हो गयी। ओला ने इस वित्तीय रपट पर प्रतिक्रिया के लिए पीटीआई भाषा की ओर से भेजे गए ई – मेल का जबाव नहीं दिया। शोध फर्म टोफलर की संस्थापक आंचल अग्रवाल ने कहा कि ओला को वित्तीय सम्पत्तियों के मूल्य में कमी होने के कारण आलोच्य वर्ष में 1000 करोड़ रुपये के एकबारगी नुकसान से नतीजे खराब रहा। अन्य

ई – कॉमर्स कंपनियों की तरह ओला के विज्ञापन खर्च में उस अवधि में 35 प्रतिशत की कमी हुई। टोफ्लर को मिले दस्तावेज के मुताबिक , ओला को वित्त वर्ष 2016-17 में वित्तीय प्रतिभूतियों की कीमतों गिरने से 1,095.3 करोड़ रुपये की एकबारगी हानि हुई। कंपनी का कर्मचारी खर्च करीब 24 प्रतिशत बढ़कर 572.1 करोड़ रुपये रहा जबकि ब्याज खर्च बढ़कर 28.7 करोड़ रुपये हो गया।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।