नई दिल्ली : दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने सोमवार को भारती एयरटेल और नार्वे की दूरसंचार कंपनी की भारतीय इकाई टेलीनॉर इंडिया के विलय को मंजूरी दे दी। डीओटी की तरफ से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि डीओटी ने टेलीनॉर इंडिया के सभी लाइसेंसों और दायित्वों का हस्तांतरण भारती एयरटेल को कर दिया है। डीओटी ने यह अधिसूचना सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पिछले हफ्ते उसके द्वारा भारती एयरटेल को टेलीनॉर इंडिया के अधिग्रहण को मंजूरी देने से पहले पूर्व शर्त के रूप में 1,449 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी जमा कराने के आदेश को रद्द करने के बाद जारी की है।

भारती एयरटेल को टेलीनॉर इंडिया के प्रस्तावित विलय के लिए पिछले साल जून में भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी), बीएसई (बम्बई स्टॉक एक्सचेंज), नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया (एनएसई) और भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की मंजूरी मिल गई थी। दूरसंचार दिग्गज ने बाद में एक बयान में कहा, ये सर्किल्स सघन आबादी इलाकों के लिए हैं, इसलिए इसमें विकास की उच्च क्षमता है। प्रस्तावित अधिग्रहण में टेलीनॉर इंडिया की सारी परिसंपत्तियां और ग्राहक शामिल हैं, और इससे एयरटेल का ग्राहक आधार और नेटवर्क दोनों में वृद्धि होगी।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पढ़े पंजाब केसरी अखबार।