नई दिल्ली : घोटाले में फंसे पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को जनवरी-मार्च की अवधि में 13,416.91 करोड़ का शुद्ध घाटा हुआ। सार्वजनिक क्षेत्र के इस बैंक के लिए यह सबसे बड़ा त्रैमासिक घाटा है। यह मुख्य रूप से फंसे कर्ज के लिए ऊंचे प्रावधान के चलते हुआ है। बैंक ने 2016-17 की चौथी तिमाही में 261.90 करोड़ का एकल मुनाफा कमाया था। बैंक ने कहा है कि नीरव मोदी घोटाले के चलते हुए घाटे के मद में उसने 7,178 करोड़ का प्रावधान आलोच्य तिमाही में किया।

इसके अनुसार यह 14,356 करोड़ की कुल राशि का 50% है। बैंक घोटाले वाले इस खाते की बाकी बची राशि के लिए प्रावधान मौजूदा वित्त वर्ष की बाकी तीन तिमाहियों में करेगी। पीएनबी का कहना है कि उसने फर्जी तरीके से जारी किए गए साख पत्रों तथा विदेशी साख पत्रों के मद में अपनी देनदारियों के लिए अन्य बैंकों को 6,586.11 करोड़ का भुगतान किया है।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ।