SBI ने दिया ग्राहकों को जोर का झटका


नई दिल्ली : देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने अपने ग्राहकों को दी जाने वाली सभी सेवाओं पर चार्ज लगाना शुरू कर दिया है। ये नियम 1 जून से लागू हुआ है। एसबीआई के ग्राहकों के लिए एटीएम, ऑनलाइन ट्रांजैक्शन, चेकबुक आदि के निमयों में परिवर्तन हुए है।

मोबाइल वॉलेट स्टेट बैंक Buddy का इस्तेमाल कर एटीएम से कैश विथड्रॉ करने वाले वह ग्राहकों को 25 रुपये प्रति ट्रांजैक्शन चार्ज देना होगा। वहीं एक महीने में 4 विथड्रॉ से अधिक ट्रांजैक्शन करने वाले बचत बैंक खाता ग्राहक को प्रति ट्रांजैक्शन 50 रुपये देने होंगे। इस 50 रुपये के चार्ज का अलग से भुगतान करना होगा। वहीं किसी अन्य बैंक के एटीएम से विथड्रॉ करने पर 20 रुपये के साथ सर्विस टैक्स भुगतान होगा। वहीं एसबीआई के एटीएम से विथड्रॉ करने पर 10 रुपये और अतिरिक्त सर्विस टैक्स देना होगा।

इंटरनेट बैंकिंग/यूपीआई/आईयूएसएसआईडी की मदद से आईएमपीएस फंड ट्रांसफर से 1 लाख रुपये तक का ट्रांसफर करने पर 5 रुपये और सर्विस टैक्स का भुगतान करना होगा। वहीं 1 लाख रुपये से अधिक लेकिन 2 लाख रुपये से कम का ट्रांसफर करने पर 15 रुपये और सर्विस टैक्स अदा करना होगा। इस माध्यम से 2 लाख रुपये से अधिक लेकिन 5 लाख रुपये से कम ट्रांसफर करने पर 25 रुपये चार्ज के साथ सर्विस टैक्स देना होगा।

अब स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का अकाउंट खुलवाने पर ग्राहकों को सिर्फ रूपे क्लासिक कार्ड बिना किसी चार्ज के दिया जाएगा। यदि ग्राहक को रूपे के अलावा मास्टर कार्ड अथवा वीजा कार्ड सुविधा चाहिए तो उसे अतिरिक्त चार्ज का भुगतान करना होगा।

1 जून के बाद से स्टेट बैंक ग्राहकों को 10 चेक की बुक इशू कराने के लिए 30 रुपये का भुगतान करना होगा। इस चार्ज पर उसे सर्विस टैक्स अलग से देना होगा। वहीं 25 चेक की बुकलेट के लिए 75 रुपये और 50 चेक की बुकलेट पर ग्राहकों को 150 रुपये का चार्ज अदा करना होगा। इन दोनों चार्जेस के अलावा सर्विस चार्ज भी देना होगा।

1 जून के बाद से स्टेट बैंक में कटे-फटे पुराने नोट बदलने के लिए भुगतान करना होगा। हालांकि 5000 रुपये तक की कीमत के 20 की करेंसी नोट को बदलवाने पर ग्राहकों को चार्ज नहीं देना होगा। लेकिन 20 की करेंसी से अधिक बदलवाने पर ग्राहकों को 2 रुपये प्रति करेंसी चुकाना होगा। इस ट्रांजैक्शन पर भी ग्राहकों को सर्विस टैक्स देना होगा।