मुंबई : महंगाई दर में नरमी, औद्योगिक उत्पादन में अच्छी वृद्धि और रुपये में सुधार के बीच बंबई शेयर बाजार का प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स शुक्रवार को 373 अंक उछलकर फिर 38,000 अंक के स्तर पर पहुंच गया। नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 145.30 अंक उछलकर 11,500 के स्तर पर आ गया।

सबसे अधिक तेजी रीयल्टी, बिजली, उपभोक्ता टिकाऊ तथा धातु कंपनियों के शेयरों में दिखी। कारोबारियों के अनुसार सरकार की तरफ से रुपये को थामने के लिये उठाये जाने वाले कदम की उम्मीद में घरेलू मुद्रा में निरंतर सुधार से धारणा को बल मिला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आर्थिक स्थिति की समीक्षा के लिये शुक्रवार और शनिवार को शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठकें करेंगे।

शेयर बाजार में एे‌‌तिहा‌सिक तेजी बरकरार , निफ्टी 11,620 और सेंसेक्‍स 38,400 के पार, बनाया नया ‌रिकार्ड

शुक्रवार को कारोबार के दौरान डालर के मुकाबले रुपया 65 पैसे मजबूत होकर 71.53 पर पहुंच गया। तीस शेयरों वाला सेंसेक्स पूरे कारोबार के दौरान सकारात्मक दायरे में रहा और एक समय 38,125.62 अंक पर पहुंच गया। अंत में यह 372.68 अंक या 0.99 प्रतिशत की तेजी के साथ 38,090.64 अंक पर बंद हुआ। सात सितंबर के बाद यह सेंसेक्स का उच्चतम स्तर है। उस दिन वह 38,389.82 अंक पर बंद हुआ था।

सेंसेक्स बुधवार को 304.83 अंक मजबूत हुआ था। गणेश चतुर्थी के मौके पर बाजार गुरूवार को बंद था। नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 145.30 अंक या 1.28 प्रतिशत उछलकर 11,515.20 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 11,523.25 से 11,430.55 अंक के दायरे में रहा।

हालांकि साप्ताहिक आधार पर ये दोनों शेयर सूचकांक कुल मिला कर नुकसान में रहे। इससे पिछले सप्ताहांत की तुलना में सेंसेक्स करीब 300 अंक या 0.77 प्रतिशत जबकि एनएसई निफ्टी 73.90 अंक या 0.64 प्रतिशत नीचे रहा।

सेंसेक्स ने तोड़ा दो साल का रिकॉर्ड

बुधवार को जारी वृहत आर्थिक आंकड़े से बाजार को बल मिला। जुलाई माह में औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) में 6.6 प्रतिशत की दर से वृद्धि हुई। साथ ही खुदरा महंगाई दर अगस्त में 3.69 प्रतिशत रही जो 10 महीने का न्यूनतम स्तर है।

इधर, आज जारी आंकड़े के अनुसार खाद्य वस्तुओं के सस्ता होने से थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अगस्त में नरम होकर 4.53 प्रतिशत रही।

इस बीच, अस्थायी आंकड़ों के अनुसार घरेलू संस्थागत निवशक ने बुधवार को 541.44 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे। हालांकि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 1,086.39 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘महंगाई दर में नरमी तथा रुपये में सुधार से बाजार में उम्मीद जगी। बांड पर रिटर्न में स्थिरता तथा रुपया बाजार की गति के लिहाज से महत्वपूर्ण है। वहीं वैश्विक स्तर पर गतिविधियों को लेकर निवेशक सतर्क हैं।’’

सेंसेक्स की सूची में सर्वाधिक लाभ में वेदांता में हुआ।कंपनी को कृष्णा गोदावरी बेसिन में प्राकृतिक गैस भंडार मिलने की खबर से इसका शेयर 5.25 प्रतिशत मजबूत हुआ।

लाभ में रहे अन्य प्रमुख शेयरों में पावर ग्रिड, एशियन पेंट्स, एनटीपीसी, यस बैंक, एचडीएफसी लि., इंडसइंड बैंक, ओएनजीसी, सन फार्मा, भारती एयरटेल, एसबीआई, टाटा स्टील, आईसीआईसीआई बैंक, मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, अडाणी पोट्र्स, टीसीएस तथा हीरो मोटो कार्प प्रमुख हैं।

इन्फोसिस तथा कोल इंडिया नुकसान में रहे। फसल की सरकारी खरीद के लिए मंत्रिमंडल की 15,053 करोड़ रुपये की नई नीति क जरिए किसानों को बेहतर मूल्य सुनिश्चित की पहल से उर्वरक कंपनियों के शेयरों की मांग रही।

पेट्रोल में मिश्रण के लिए एथनॉल के दाम 25 प्रतिशत तक बढ़ाये जाने के निर्णय से चीनी कंपनियों के शेयरों में 20 प्रतिशत तक की तेजी आयी। इन कंपनियों में सिंभावली शुगर्स, राणा शुगर्स, मगध शुगर एंड एनर्जीख् राजश्री शुगर्स एंड केमिकल्स, के एम शुगर मिल्स, अवध शुगर एंड एनर्जी और कुछ अन्य के शेयर अच्छे लाभ में रहे।

वैश्विक स्तर पर एशिया के ज्यादातर प्रमुख बाजारों में तेजी रही। अमेरिका तथा चीन के बीच व्यापार विवाद दूर करने को लेकर बातचीत की पहल की खबरों से शेयर बाजारों में तेजी रही।

जापान का निक्केई 1.20 प्रतिशत तथा हांगकांग का हैंग सेंग 0.97 प्रतिशत मजबूत हुए। हालांकि शंघाई कंपोजिट सूचकांक 0.18 प्रतिशत मजबूत हुआ।

यूरो क्षेत्र में भारतीय समयानुसार दोपहबाद शुरुआती कारोबार में जर्मनी का फ्रैंकफर्ट डीएएक्स 0.59 प्रतिशत तथा पेरिस सीएसी 40 0.58 प्रमतिशत मजबूत चल रहा था।लंदन का एफटीएसई भी 0.42 प्रतिशत मजबूती दिख रही थी।