तो क्या बेन हो जायेगा आईफ़ोन? जानिये क्यों


चौंकिए मत ये घटना भारत की नहीं है पर अगर एप्पल ने इसपर विचार नहीं किया तो शायद अमेरिका में एप्पल के आईफ़ोन्स पर बेन लग सकता है। हाल ही में ‘क्वालकॉम’ जो दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल फोन चिप्स निर्माता है, ने अमेरिका में आईफ़ोन्स की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए याचिका दायर की है।

इसका आरोप है कि आईफ़ोन्स में एप्पल द्वारा जिस चिप  का उपयोग किया जा रहा है उनमें प्रतिद्वंदी कंपनियां जैसे इंटेल, ने कम से कम छह क्वालकॉम के पेटेंट का उल्लंघन किया है। क्वालकॉम ने आईफोन के आयात ब्लॉक की जांच और सही करने के लिए यूएस इंटरनेशनल ट्रेड कमिशन (आईटीसी) से आग्रह किया था।

क्वालकॉम के खिलाफ एप्पल के $ 1 बिलियन मुकदमा : 20 जनवरी 2017 को, एप्पल ने पेटेंट के लिए ज्यादा फीस चार्ज करने के लिए मोबाइल चिप निर्माता क्वालकॉम के खिलाफ $ 1 बिलियन मुकदमा दायर किया “जिसमे एप्पल का कहना था कंपनी ने बिना कोई बदलाव किये ज्यादा फीस चार्ज की है”।

ऐप्पल ने टचआईडी, कैमरे, और डिस्प्ले जैसे श्रेणियों के रूप में उद्धृत किया है, जहां क्वालकॉम पर आरोप है की उसने लाइसेंसिंग को महंगा बनाकर  इस क्षेत्र की प्रतियोगिता को खत्म कर दिया है।

एप्पल ने क्वालकॉम को अन्य सभी सेलुलर पेटेंट लाइसेंसधारियों की तुलना में “अत्यधिक रॉयल्टी जो कम से कम पांच गुना अधिक है ” चार्ज करने का आरोप लगाया है।

एप्पल के मुकदमे की खबर के बाद क्वॉलकॉम के शेयर में 12% से अधिक की कमी आई, जहां कंपनी को प्रौद्योगिकी के लिए अन्यायपूर्ण चार्जिंग रॉयल्टी का आरोप लगाया गया था।क्वालकॉम ने अपने जवाब में कहा कि एप्पल ने जानबूझकर अपने समझौतों का गलत इस्तेमाल किया है।

क्वालकॉम के सीईओ ने कहा कि एप्पल के मुकदमा क्वालकॉम के बिजनेस मॉडल पर एक ‘सीधा हमला’ था। एप्पल क्वालकॉम को एक iPhone के बिल के 3-4% का भुगतान करता है और उसने क्वॉलकॉम को “रॉयल्टी” का “उत्थान” करने के लिए 30,000 से अधिक पेटेंटों के “थिकेट” के पीछे छिपाने का दोषी ठहराया है।

क्वालकॉम, जिसने सभी स्मार्टफ़ोन के लिए मानकीकृत तकनीक का पेटेंट कराया है, का दावा है कि ऐप्पल का रॉयल्टी काटने का निर्णय अनुबंधों का उल्लंघन करता है जो कि आईफोन को बेन किये जाने के लिए पर्याप्त है ।