नई दिल्ली : सार्वजनिक क्षेत्र के यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया ने विभिन्न परिपक्वता अवधि वाले कर्ज पर कोष की सीमांत लागत आधारित दर (एमसीएलआर) में 0.05 प्रतिशत तक की वृद्धि की है। संशोधित दरें 14 सितंबर 2018 से लागू होंगी। यूनाइटेड बैंक ने शेयर बाजार को बताया, बैंक की संपत्ति देनदारी समिति ने विभिन्न परिपक्वता अवधि के लिये एमसीएलआर में संशोधन किया है। बैंक ने एक वर्ष की परिपक्वता अवधि के लिये एमसीएलआर को 8.80 प्रतिशत से बढ़ाकर 8.85 प्रतिशत किया है। छह महीने और तीन महीने की परिपक्वता अवधि के लिये एमसीएलआर को बढ़ाकर क्रमश: 8.65 और 8.55 प्रतिशत किया गया है।

SBI ने एफडी पर बढ़ाया ब्याज

बैंक ने कहा कि एक दिन और एक महीने की अवधि के लिये एमसीएलआर को 8.15 प्रतिशत और 8.40 प्रतिशत किया गया है। इस महीने की शुरुआत में भारतीय स्टेट बैंक ने विभिन्न परिपक्वता अवधि वाले कर्ज पर एमसीएलआर में 0.2 प्रतिशत की वृद्धि की थी। इसी प्रकार, आईसीआईसी बैंक ने एक वर्ष की अवधि के लिये एमसीएलआर को 0.15 प्रतिशत बढ़ाकर 8.55 प्रतिशत किया। बैंक ऑफ बड़ौदा ने भी विभिन्न परिपक्वता अवधि के लिये एमसीएलआर में 0.05 प्रतिशत तक की वृद्धि की थी।