मुस्लिम महिलाओं ने कांवड़ की निकाली यात्रा एकता की नई मिसाल दी


भारत में हर तरह के धर्मों के लोग रहते हैं और भारत अपने इसी अलग-अलग धर्मों की वजह से पूरे विश्व में जाना जाता है। भारत में इन्हीं अलग-अलग धर्मों की वजह से कई बार दंगे भी हुए हैं और आज भी होते आ रहे हैं। बता दें कि भारत में सांप्रदायिक मुद्दों को लेकर यहां के लोग असहज हों लेकिन ऐसी भी बातें हो जाती हैं जो कि धर्म, जाति और किसी भी संप्रदाय से बहुत ही ऊपर होती है।

आज हम आपको एक ऐसे ही उदाहरण के बारे में बताने जा रहे हैं कि पिछले साल सावन के महीने की बात है। भारत में सावन बहुत ही पवित्रता के साथ मनाया जाता है। इस महीने को फलदायी महीना भी कहते हैं। सावन के महीने में शिवजी की असीम कृपा होती है।

इस महीने में लोग गंगा जल लेने के लिए कई किलो मीटर की पैदल यात्रा करते है और गंगा जल लाकर शिव का जलाभिषेक करते हैं। इस बार कावड़ यात्रा में एक अद्भुत नजारा देखने को मिला इंदौर में, जहां शंकर जी को जल चढ़ाने के लिए कांवड़ लेकर निकली मुस्लिम महिलाएं, जो हमारे देश की साम्प्रदायिक एकता की अनूठी मिसाल बनकर उभर रही है।

इस कांवड़ यात्रा में काफी बड़ी मात्रा में मुस्लिम महिलाएं सम्मलित होकर अपने देश में एकता भाईचारे की मिसाल दे रही है। जिनके लिए सभी धर्म समान है। जिनमें कुरान और गीता के दिए गए उपदेश एक ही है और उन्हीं उपदेशों को मानकर वे सभी धर्मों को एकरूप से देख रही है।

इस यात्रा में सभी धर्मों की महिलाएं एक होकर कावड़ लेकर पैदल यात्रा कर समाज को एक अच्छा संदेश दे रहीं हैं।