बांग्लादेश में 35 साल के एक व्यक्ति को प्रधानमंत्री शेख हसीना और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित कई नेताओं की तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप में सात साल की जेल की सजा सुनायी गयी है। दक्षिणपंथी समूहों ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि शेख हसीना सरकार सख्त इंटरनेट कानूनों का उपयोग असंतुष्टों की आवाज दबाने के लिए कर रही है।

बांग्लादेश साइबर ट्रायब्यूनल के एक न्यायाधीश ने मुनीर हुसैन नामक व्यक्ति को बुधवार को यह सजा सुनायी। बीडीन्यूज24 डॉट काम की खबर के अनुसार इस मामले में दो और आरोपी थे लेकिन आरोपों के साबित नहीं होने के कारण उन्हें बरी कर दिया गया। फैसले के अनुसार मुनीर ‘‘मुनीर टेलीकॉम’’ नाम से एक दुकान चलाता था।

रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस भेजने के लिए शेख हसीना ने भारत से मांगी मदद

 उसने 2013 में मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने वालों को शेख हसीना, पूर्व राष्ट्रपति जिल्लूर रहमान और मनमोहन सिंह की ऐसी तस्वीरें भेजी थी जिनमें छेड़छाड़ की गयी थी। दक्षिणपंथी समूहों ने सख्त इंटरनेट कानूनों का उपयोग करने के लिए सरकार की आलोचना की।