राजस्थान के करौली में दो दलित नेताओं के फूंके गए घर , जबरदस्ती बंद कराई गई दुकाने


करौली में हिंसा

एससी-एसटी ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ देशव्यापी भारत बंद का असर मंगलवार को भी कुछ इलाकों में देखने को मिला। इस हिंसा में आधिकारिक तौर पर 8 लोगों की मौत की खबर है। लेकिन एक दिन बाद भी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। विरोध की भीड़ ने अब राजस्थान के करौली में दो नेताओं के घरों को निशाना बनाया है। जानकारी के मुताबिक करौली में बीजेपी की दलित विधायक राजकुमारी जाटव और पूर्व विधायक भरोसीलाल जाटव का घर फूंक दिया गया।

बताया जा रहा है कि घटना के वक्त इलाके में करीब 40 हजार लोग इकट्ठा थे जिन्होंने कथित रूप से हमला बोला है। बताया जा रहा है कि इलाके में सोमवार को हुई हिंसा के जवाब में आज सुबह यहां भीड़ जमा हुई और नेताओं के घरों को निशाना बनाया गया। हिंडौन के व्यापारियों का आरोप है कि सोमवार को यहां बंद के नाम पर जबरदस्ती लोगों की दुकानें बंद कराई गईं। इतना ही नहीं बाजार बंद कराने के नाम पर व्यापारियों के साथ मारपीट और लूटपाट भी की गई।

शहर के बाजारों की कुछ दुकानों में तोड़फोड़ के भी आरोप हैं। सोमवार को दुकान और वाहन जलाए जाने के खिलाफ व्यापारी और दूसरे समाज के लोगों ने आज बंद का आह्वान किया था। इसी दौरान बड़ी संख्या में लोग कलेक्टर को ज्ञापन देने जा रहे थे। हालात तनावपूर्ण देखते हुए इलाके में धारा 144 लागू की गई थी। बंद समर्थकों ने बाजारों में जमकर लूटपाट और मारपीट की थी। इससे पूरे शहर में दहशत और भय का माहौल व्याप्त हो गया। भीड़ ने प्रदर्शन के दौरान पुलिस पर भी पथराव किया। उपद्रवियों ने कई एटीएम मशीन में भी तोड़फोड़ कर दी थी।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें।