जय श्री राम बोलने पर फतवा के बाद बिहार सरकार के मंत्री ने मांगी माफी


‘जय श्रीराम’ का नारा लगाकर सुर्खियों में आने वाले बिहार सरकार के मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद के खिलाफ इमारत-ए-शरिया के काजी ने फतवा जारी किया था ।

जिसके बाद बिहार सरकार के मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने नीतीश कुमार के सामने अल्पसंख्यक समुदाय के विरोध के बाद माफ़ी माँग ली है मुख्यमंत्री ने आज अल्पसंख्यक समुदाय की बैठक बुलाई थी जिसमें अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ख़ुर्शीद का विरोध हुआ । लोगों ने फिरोज अहमद की बर्ख़ास्तगी की माँग की और साथ ही कलमा भी पढ़ने को कहा गया ।

इस विरोध के बाज मंत्री ने कलमा तो नहीं पढ़ा लेकिन हाथ जोड़कर लोगों से माफ़ी माँग ली । विश्वासमत के बाद फिरोज अहमद ने जय श्री राम का नारा लगाया था जिसके बाद उनके खिलाफ फतवा भी जारी हो गया था । इमारत शरिया के मुफ्ती सुहैल अहमद कासमी ने एक फतवा जारी करके फिरोज अहमद को इस्लाम से खारिज बताया था. इतना ही नहीं फतवे के आधार पर उनका निकाह भी टूट गया है । फतवे के मुताबिक उन्हें अपने इस काम के लिए तौबा करके फिर से निकाह करना होगा ।

बता दे कि पहले खबरें आयी की ये फतवा इमारत-ए-शरिया ने जारी किया है । लेकिन बाद में इस फतवे को शरिया ने खुद से अलग करते हुए कहा कि ये फतवा वहां के काजी मुफ्ती सुहैल अहमद कासमी ने जारी किया है।

आपको बता दे कि बीती 28 जुलाई को विधानसभा में NDA की नीतीश सरकार का बहुमत साबित होने के बाद पश्चिमी चंपारण के सिकटा से जदयू विधायक खुर्शीद अहमद ने विधानसभा परिसर में ‘जय श्रीराम’ के नारे लगाए थे।