सहारनपुर में फिर बबाल : आगजनी, पथराव


सहारनपुर : जनपद के थाना बडग़ांव क्षेत्रांतर्गत गांव शब्बीरपुर में दलितों व ठाकुरों के बीच हुए संघर्ष में दलितों के मकान फूंकने के विरोध में सहारनपुर में आयोजित सभा न होने से गुस्साए दलित समाज के लोगों ने जनपद में जगह-जगह सड़क जाम, पथराव व आगजनी की। इस दौरान दलित समाज के लोगों ने यात्री वाहनों व पत्रकारों के 12 वाहनों को आग के हवाले कर दिया। पथराव के दौरान जहां एक सीओ का हाथ टूट गया वहीं एसपी सिटी ने बामुश्किल भागकर जान बचाई। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी एन. पी. सिंह व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुभाष चंद दुबे ने बामुश्किल स्थिति पर काबू पाया। मिली जानकारी के अनुसार दलित समाज के कुछ संगठनों द्वारा थाना बडग़ांव के गांव शब्बीरपुर में दलितों के घर फूंके जाने के विरोध में आज देहरादून रोड स्थित संत रविदास छात्रावास में बैठक का आयोजन किया गया था जिसकी सूचना मिलते ही पुलिस प्रशासन ने संत रविदास छात्रावास को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया था

जिस कारण दलित संगठनों के कार्यकर्ता गांधी पार्क में एकत्र हुए, परंतु वहां पर भी पुलिस ने उन्हें रोकना चाहा तो उन्होंने पुलिस पर पथराव कर दिया जिसके चलते बल प्रयोग कर उन्हें गांधी पार्क से खदेड़ दिया। गांधी पार्क से खदेड़े जाने से गुस्साए दलित संगठनों के कार्यकर्ताओं ने जनपद के उनाली, नाजिरपुरा, रामनगर, रामपुर मनिहारान एवं हलालपुर में जाम लगा दिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने जहां हलालपुर में तीर्थयात्रा में जा रही बस से तीर्थयात्रियों को उतारकर उसमें आग लगा दी तथा सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस पर भी पथराव किया। थाना कुतुबशेर क्षेत्रांतर्गत उनाली में जाम की सूचना मिलने पर थाना कुतुबशेर प्रभारी नरेंद्र शर्मा पुलिस को लेकर मौके पर पहुंचे, जहां प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। सूचना मिलते ही एसपी सिटी संजय सिंह व सीओ अब्दुल कादिर ने मौके पर पहुंचकर स्थिति को बामुश्किल काबू किया। थाना देहात कोतवाली क्षेत्रांतर्गत मल्हीपुर रोड स्थित रामनगर में दलित संगठनों के लोगों ने जमकर बवाल किया। बवाल के दौरान जहां दंगाइयों ने नकुड़ के सीओ विष्णु चंद गौतम का हाथ तोड़ दिया, वहीं एसपी सिटी संजय सिंह ने बामुश्किल भागकर अपनी जान बचाई।

इस दौरान दंगाइयों ने एक थानाध्यक्ष की निजी गाड़ी को आग के हवाले कर दिया, वहीं पत्रकारों व यात्रियों के एक दर्जन से अधिक बाइकों में भी आग लगा दी। पत्रकारों ने बामुश्किल भागकर अपनी जान बचाई। इसी दौरान दंगाइयों ने मल्हीपुर रोड पर निर्माणाधीन महाराणा प्रताप भवन में बनाए गए कमरे व दीवारों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। सूचना मिलते ही एसएसपी सुभाष चंद दुबे व जिलाधिकारी एन. पी. सिंह मौके पर पहुंचे तथा जनपद के कई थानों से पुलिस बल को मौके पर बुलाकर मुश्किल से स्थिति पर काबू पाया। बवाल के दौरान स्कूली बच्चे व ग्रामीण महिलाएं भी भय व दहशत के चलते अपने घरों को दौड़ते दिखाई दिए। पुलिस ने बल प्रयोग कर दंगाइयों को खदेड़ दिया। इसके बाद एसएसपी व जिलाधिकारी गांव रामनगर पहुंचे जहां उन्होंने दलित समाज के लोगों से वार्ता की। समाचार लिखे जाने तक गांव रामनगर में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई थी तथा पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी ग्रामीणों से वार्ता कर माहौल को सामान्य बनाने में जुटे हुए थे।

– जावेद साबरी