मंगलवार की शाम वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन के पास एक निर्माणाधीन फ्लाईओवर का पिलर गिरा गया। बता दे कि ओवर ब्रिज का हिस्सा जमीन पर गिरते ही नीचे मौजूद लगभग 50 लोग इसके मलबे में दब गए। ओवरब्रिज का पिलर गिरने के बाद चीख पुकार मच गई और अफरातफरी की स्थिति मौके पर बन गई।

बताया जा रहा है कि इस घटना में कई लोगों की मौत की खबर है। हालांकि की आभी इस बात कि पुष्टि नहीं हुई है कि हादसे में किसी की जान गई है। हादसे के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई।

वहीं इस दौरान यातायात भी दोनों तरफ का बाधित हो गया तो काफी लंबी दूरी तक जाम की स्थिति भी बन गई। लोगों को बचाने के साथ ही पुलिस यातायात को सुचारु रूप से संचालित करने में व्यस्त हो गई। पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंचकर राहत और बचाव कार्य में जुट गई।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वाराणसी में कैंट रेलवे स्टेशन के निकट एक निर्माणाधीन फ्लाईओवर का पिलर गिरने के कारण लोगों के हताहत होने पर दुख जताया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात कर स्थिति की जानकारी ली है। इस हादसे में 35 लोगों के हताहत होने की आशंका जतायी गयी है।

राष्ट्रपति ने ट्वीट करके कहा है, ‘वाराणसी में निर्माणाधीन फ्लाईओवर हादसे की जानकारी मिलने से काफी दुख पहुंचा है। हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति मेरी हार्दिक संवदेना है। स्थानीय प्रशासन सभी प्रभावित लोगों की मदद और राहत कार्यों में जुट गया है।’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने ट्विटर संदेश में कहा है, ‘वाराणसी में निर्माणाधीन फ्लाईओवर पर हुए हादसे के बारे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से जानकारी ली है। उत्तर प्रदेश सरकार स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए है और प्रभावितों को सहायता पहुंचाने का काम किया जा रहा है।’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘वाराणसी में हुए इस हादसे में लोगों की जान जाने से मैं बहुत दुखी हूं। मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल लोग जल्द स्वस्थ हों। मैंने अधिकारियों से भी बात की है और उनसे प्रभावित लोगों को हर संभव मदद पहुंचाने को कहा है।’

उल्लेखनीय है कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है और वहां कैंट रेलवे स्टेशन के निकट एक निर्माणाधीन फ्लाईओवर का पिलर गिरने से कई राहगीर और वाहन दब गये। इस हादसे में कम से कम 35 लोगों के हताहत होने की आशंका है।

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी वाराणसी प्रशासन के अधिकारियों से बात करके स्थिति का जायजा लिया है। राहत बचाव अभियान में मदद के लिए आपदा मोचन बल की टीमों को रवाना किया गया है। श्री सिंह ने भी हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट की है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी घटना पर दुख जताया है और जिला प्रशासन को तेजी से बचाव कार्य में जुटकर लोगों की हरसंभव मदद करने के निर्देश दिए हैं। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य वाराणसी के लिए रवाना हो गये हैं।

आपको बता दे कि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है और बीजेपी यहां लगातार विकास करने के लिए प्रतिबद्ध नजर आती है।

लोकसभा चुनाव 2014 में वाराणसी से जीत हासिल करके सरकार बनाने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने काशी को क्योटो बनाने का वादा किया। इस वादे के तहत पीएम ने वाराणसी को 21वीं सदी के लिए मॉर्डन स्मार्ट सिटी बनाने की कवायद करते हुए शहर को जापान की धार्मिक राजधानी क्योटो की तर्ज पर विकसित करने का खाका तैयार किया।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।