बिहार में दो करोड़ लोग आधार कार्ड से वंचित


पटना, (भाषा): बिहार में अब तक 9.33 करोड़ लोगों का आधार कार्ड बन चुका है जबकि प्रदेश के करीब दो करोड़ लोगों का अब भी आधार कार्ड बनना बाकी है। पटना जीपीओ में बिहार सर्किल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल एम. ई. हक द्वारा आधार कार्ड सुधार इकाई (मोडिफिकेशन सेल) का आज उद्घाटन किए जाने के समय उपस्थित पटना में पदस्थापित भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के सहायक महानिदेशक आर.के. सिंह ने बताया कि बिहार में अबतक 9.33 करोड़ लोगों का आधार कार्ड बन चुका है जबकि राज्य के करीब दो करोड़ लोगों का अब भी आधार कार्ड बनना बाकी है।

उन्होंने बताया कि बिहार में डाकघरों में आधार कार्ड सुधार इकाई की शुरुआत पटना के जीपीओ एवं बांकीपुर तथा आरा, सासाराम, औरंगाबाद, बक्सर, गया, जहानाबाद एवं हाजीपुर में की जा रही है। सिंह ने बताया कि बिहार में वर्तमान में कॉमन सर्विस सेंटर सहित 4500 से 5000 आधार पंजीकरण केंद्र संचालित हैं। बिहार सर्किल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल एम.ई. हक ने बताया कि प्रथम चरण के तहत प्रदेश के 37 मुख्य डाकघरों में आधार कार्ड सुधार इकाई खोली जाएगी।

उन्होंने बताया कि भविष्य में आधार कार्ड सुधार इकाई का विस्तार प्रदेश के सभी 1055 डाकघरों में किये जाने की योजना है। हक ने बताया कि आधार कार्ड में सुधार के लिए ग्राहकों से प्रति आधार कार्ड 25 रुपये शुल्क के तौर पर लिए जाएंगे। इससे डाक विभाग के राजस्व में भी वृद्धि होगी। उन्होंने बताया कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के सहयोग से शुरू की गयी इस योजना के अगले चरण में प्रदेश के डाकघरों में आधार कार्ड पंजीकरण की भी प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल पूर्वी प्रक्षेत्र अनिल कुमार एवं डाक निदेशक मु. मनोज कुमार भी उपस्थित थे।