रैली के जरिये बेनामी संपत्ति बचने वाली नहीं हैं लालू : सुशील


पटना : बिहार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधानमंडल दल के नेता एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर इस वर्ष अगस्त में प्रस्तावित रैली के जरिये चारा घोटाला एवं रेलमंत्री के कार्यकाल में अर्जित अकूत बेनामी संपत्ति को बचाने का आरोप लगाते हुए कहा कि श्री यादव चाहे कितनी भी कोशिश कर लें उनकी बेनामी संपत्ति बचने वाली नहीं है।

श्री मोदी ने कहा कि रैली के जरिए श्री यादव चारा घोटाले एवं उनके रेलमंत्री के कार्यकाल में अर्जित अकूत बेनामी संपत्ति को बचाना चाहते हैं। राजद अध्यक्ष के लिए सत्ता कभी भी गरीबों का कल्याण करने का साधन नहीं रही बल्कि लूट करने के लाइसेंस की तरह रही है। उन्होंने कहा कि रैली-रैला के जरिए श्री यादव चाहे जितनी कोशिश कर लें उनकी बेनामी संपत्ति बचने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि राजद अध्यक्ष 27 अगस्त को देश बचाओं नहीं बल्कि बेनामी संपत्ति बचाओं रैली आयोजित करने जा रहे हैं।

भाजपा नेता ने कहा कि भ्रष्टाचार और मुखौटा कम्पनियों के जरिए अकूत बेनामी संपत्ति जमा करने वालों में केन्द्र सरकार की 16 मई की कार्रवाई से हड़कम्प मच गया है। उन्होंने कहा कि श्री यादव के साथ ही नोटबंदी का जोर-शोर से विरोध करने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जैसे लोग अब रैली के नाम पर अपनी- अपनी बेनामी संपत्ति को बचाने के लिए एकजुट हो रहे हैं।

श्री मोदी ने कहा कि राजद अध्यक्ष श्री यादव ने यह तो स्वीकार कर लिया है कि राजधानी पटना में 750 करोड़ रुपये की लागत से बन रहा बिहार का सबसे बड़ा मॉल उनका है वहीं अब तक चुप्पी साध कर लालू परिवार ने यह भी मान लिया है कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बिजवासन, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, सैनिक फार्म की कई सौ करोड़ की संपत्ति के साथ ही औरंगाबाद की 54 डिसमिल जमीन, पटना में व्यवसायी ओमप्रकाश कत्याल की जमीन पर निर्माणाधीन पेट्रोल पम्प तथा जी बी मॉल जैसी तमाम बेनामी संपत्ति के वे ही मालिक हैं।

भाजपा नेता ने कहा कि नोटबंदी के बाद केन्द्र सरकार से बेनामी संपत्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की लालू परिवार की हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति उजागर होने के बाद घिग्गी बंध गई है। उन्होंने कहा कि यदि श्री यादव की रैली में मुख्यमंत्री शामिल होते हैं तो इसका मतलब है कि बेनामी संपत्ति के खिलाफ कार्रवाई की उनकी मांग ढकोसला थी और अब वे भ्रष्टाचारियों के समर्थन में खड़े हैं।

उल्लेखनीय है कि श्री मोदी की ओर से लगातार लगाए जा रहे आरोपों के बाद 16 मई को आयकर विभाग ने राजद अध्यक्ष श्री यादव, उनके परिवार एवं करीबी रिश्तेदारों की कथित बेनामी संपत्ति से जुड़े दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) गुरुग्राम स्थित 20 ठिकानों पर छापेमारी की थी।

– वार्ता