एक और मंत्री के परिवार पर सीबीआई का शिकंजा


पटना, (वार्ता): बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के प्राथमिकी करने के बाद उनके इस्तीफे को लेकर सत्तारूढ़ महागठबंधन में जारी खींचतान अभी शांत भी नहीं हुआ था कि ब्यूरो ने राष्ट्रीय जनता दल(राजद) कोटे से राज्य के परिवहन मंत्री चंद्रिका राय के परिवार के सदस्यों पर धोखाधड़ी मामले में शिकंजा कस दिया है।

सीबीआई सूत्रों ने बताया कि परिवहन मंत्री चंद्रिका राय के भाई विधानचंद्र राय, भाभी कविता राय, भतीजे अभिषेक राय और उनके वाहन शोरूम सोनाली ऑटो प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ बैंक के साथ धोखाधड़ी कर 4.70 करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज किया गया है। इनके साथ ही यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की पटना स्थित मुख्य शाखा के तत्कालीन शाखा प्रबंधक अरविंद नारायण सिंह और वरिष्ठ प्रबंधक (ऋण) कुमार आनंद के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज करते हुए अनुसंधान शुरू कर दिया गया है।

प्राथमिकी के अनुसार, परिवहन मंत्री के भाई विधान चंद राय की एजेंसी सोनाली ऑटो को यूनियन बैंक से 43 करोड़ रुपये के ओवरड्राफ्ट की सुविधा मुहैया करायी गयी थी। खाते में गड़बड़ी होने पर श्री विधान चंद राय ने बैंक अधिकारियों से सांठगांठ कर धोखाधड़ी की।

बिना जरूरी कागजात के बैंक अधिकारियों ने जनवरी 2016 में गर्दनीबाग निवासी सुधीर कुमार के नाम 4.70 करोड़ रुपये का ऋण भी जारी कर दिया। वहीं, बाद में सुधीर कुमार और कौशल्या देवी के नाम बचत खाता बिना फॉर्म और ‘ग्राहकों को जानो’ (केवाईसी)के खोला गया फिर इसी खाते के जरिए सोनाली ऑटोमोबाइल्स के खाते को ठीक रखने के लिए कई ट्रांजेक्शन किये गये।