बिहार के प्रति केन्द्र उदार


पटना : बिहार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने केंद्र सरकार पर बिहार की उपेक्षा करने के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा कि श्री कुमार भले उपेक्षा का राग अलापें लेकिन केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की प्रगति देखकर प्रदेश को 75 करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि देकर उदारता का परिचय दिया है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा की लोक लेखा समिति के सभापति नंदकिशोर यादव ने यहां कहा कि मुख्यमंत्री श्री कुमार भले ही प्रदेश की उपेक्षा का सुर अलापते रहें लेकिन केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने राज्य में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की प्रगति देख 75 करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि देकर अपनी उदारता का परिचय दिया है।

श्री यादव ने कहा कि केन्द्र सरकार अपनी जन उपयोगी योजनाओं के कार्यान्वयन पर सीधी नजर रखती है। भाजपा कार्यकर्ता अपने महासम्पर्क अभियान के तहत गांव-गांव जाकर इन योजनाओं के बारे में आमजनों को अवगत करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना है जिसका मुख्य उद्देश्य बारहमासी सड़कों के जरिये सुदूर गांवों को सड़क सम्पर्कता प्रदान करना है।

भाजपा नेता ने कहा कि वर्ष 2016-17 में 47, 447 किलोमीटर लंबाई तक सड़कों का निर्माण इस योजना के अंतर्गत किया गया है जो अपने आप में रिकार्ड है। इस अवधि में 130 किलोमीटर सड़क का निर्माण किया गया जो पिछले सात वर्षों में सर्वाधिक वार्षिक निर्माण दर है। उन्होंने कहा कि बिहार में इस अवधि में 6601.62 किलोमीटर पथों का निर्माण कराया गया है।

इस उपलब्धि के लिए मोदी सरकार ने राज्य सरकार को प्रोत्साहन के तौर पर 74.77 करोड़ रुपये की राशि रखरखाव के मद में दी है। श्री यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सबका साथ-सबका विकास मूलमंत्र को लेकर चल रहे हैं लेकिन मुख्यमंत्री श्री कुमार को उनका यह नारा गले नहीं उतर रहा है।

इसके बावजूद केंद्र सरकार बिहार को धनराशि देकर अपनी सदाशयता का उदाहरण पेश कर रही है। उन्होंने तंज कसते हुये कहा कि नीतीश जी विरोध की राजनीति की भी एक सीमा होती है आप तो उस सीमा को भी लांघने पर उतारू हैं। मोदी सरकार के नजरिये से कुछ तो सीख लीजिये।