गठबंधन कांग्रेस की मजबूरी : अशोक गहलोत


पटना : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यहां गुरुवार को कहा कि आज राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के साथ गठबंधन कांग्रेस की मजबूरी है। अशोक गहलोत ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से रूबरू होते हुए यहां कहा कि समय की मांग के कारण कांग्रेस को गठबंधन करना पड़ रहा है, नहीं तो किसी जमाने में कांग्रेस अकेले ताकतवर पार्टी थी। आज वह स्थिति नहीं है कि कांग्रेस अकेले दम पर सरकार बना ले। उन्होंने हालांकि बाद में यह भी कहा, ‘राजद से हमारा गठबंधन है और हमेशा ही रहेगा।’ गहलोत ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजग में चले जाने के निर्णय को गलत बताते हुए कहा, ‘आज वे सांप्रदायिक ताकतों के साथ खड़े हैं।

उन्हें इसके लिए एक दिन पछतावा होगा। आज सबको पता है कि नीतीश भाजपा के साथ सहज नहीं हैं।’ गहलोत ने संगठन को एकबार फिर से मजबूत करने पर जोर देते हुए कार्यकर्ताओं से कहा कि कांग्रेस को अकेले सरकार में लाने की कोशिश होनी चाहिए। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बिहार दौरे पर भारी खर्च किए जाने पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ईमानदारी का चोला पहनने वाले भाजपा के लोगों को यह बताना चाहिए शाह के इस दौरे पर खर्च करने के लिए पैसे कहां से आए।

श्री गहलोत ने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार धान के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ौतरी कर बिना कारण के नगाड़े बजा रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र की भारतीय जनता पार्टी नीत राजग सरकार इसका श्रेय ले रही है लेकिन इससे किसानों को कोई फायदा नहीं होगा। उन्होंने कहा कि देश में किसानों की हालत बहुत खराब है, जिसके कारण वे आत्महत्या करने को मजबूर हैं। महासचिव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि‘अच्छे दिन’आयेंगे लेकिन उनकी सरकार के चार साल बीत जाने के बाद भी लोगों के अच्छे दिन नहीं आए।

उन्होंने कहा कि देश की स्थित खतरनाक है इसलिए नरेंद्र मोदी सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकना जरूरी हो गया है। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राजीव गांधी सरकार के बाद दूसरी बार सर्वाधिक जनादेश के साथ वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनी थी लेकिन उन्होंने जनता की सारी उम्मीदों को तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि इस सरकार में जनता की समस्याएं बढ़ हैं लेकिन मोदी सरकार केवल लोकलुभाव बातें करने में मशगूल है। जमीनी स्तर पर स्थिति काफी भयावह हो गई है। उन्होंने कहा कि इसके मद्देनजर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सभी विपक्षी पार्टियों की बैठक बुलाई थी और आगे भी नेताओं से चर्चा की जाएगी। उल्लेखनीय है कि श्री गहलोत ने मुंबई के एक अस्पताल से फिस्टुला का ऑपरेशन कराने के बाद पटना लौटे राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव से मुलाकात की और उनका कुशलक्षेम पूछा।