भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस की बात भ्रामक


पटना : जनतांत्रिक लोकहित पार्टी ने प्रदेश की महागठबंधन सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य में भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की बात सिर्फ दिखावा है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार ने पूछा कि राज्यभर में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। हर विभाग में भ्रष्टाचार चरम पर है। फिर यह भ्रष्टाचार कैसा जीरो टॉलरेंस है। श्री कुमार ने कहा कि चाहे शराबबंदी हो या जमीन का मामला हो, हर जगह भ्रष्टाचार चरम पर है।

कहने को तो शराब बंदी है, मगर फिर भी प्रशासनिक के नाक के नीचे अवैध रूप से शराब की बिक्री जारी है। उन्होंने कहा कि धान घोटाला, दवा घोटाला, छात्रवृत्ति घोटाला जैसे घोटालों से समझा जा सकता है कि राज्य में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए सरकार की की चिंता क्या है। राज्य की सरकार के एंजेंडे में कृषि की अहमियत नाम मात्र है, जिसका नतीजा है कि अब बिहार में भी किसान आत्महत्या को मजबूर हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य की शिक्षा व्यवस्था किस तरह बदहाल है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि स्कूलों में पढ़ाई का सत्र जनवरी माह में शुरू हो जाता है और अभी राज्य सरकार ने टेक्स्ट बुक पब्लिसिंग करा रही है। यानी बच्चों की पढ़ाई का लगभग आधा सत्र निकल गया और मगर उन्हें टेक्स्ट बुक भी सरकार उपलब्ध नहीं करा पायी।

सिर्फ परीक्षा में नकल रोकने के नाम पर लाखों छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ से शिक्षा व्यवस्था में सुधार नहीं आ सकता है। उन्होंने कहा कि जनतांत्रिक लोकहित पार्टी बिहार के मुखिया से कहना चाहती है कि सिर्फ भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की बात करने से भ्रष्टाचार पर अंकुश नहीं लगेगा, इसके लिए काम भी करने होंगे।