कॉपी राइट मामले में बिहार के सीएम पर 20 हजार का हर्जाना


नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने कॉपी राइट के एक मामले में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर 20 हजार रुपये का हर्जाना लगाया है। अदालत ने यह हर्जाना इस बात पर लगाया है कि मुख्यमंत्री कुमार ने जेएनयू के पूर्व छात्र द्वारा दायर कॉपी राइट मामले में बतौर प्रतिवादी नाम हटाने की याचिका दाखिल की थी। अदालत ने कुमार की याचिका को खारिज करते हुए यह हर्जाना लगाया है। हाईकोर्ट के ज्वाइंट रजिस्ट्रार संजीव अग्रवाल ने बुधवार को यह आदेश देते हुए कहा कि यह याचिका कानून की प्रक्रिया का गंभीर दुरुपयोग है।

वादी (विद्वान) को प्रतिवादी चुनने का अधिकार है, क्योंकि उनके खिलाफ कार्रवाई का कारण है। अपने दावे में वादी अतुल कुमार सिंह जेएनयू के पूर्व छात्र हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि पटना स्थित एशियन डेवलमपेंट रिसर्च इंस्टिट्यूट (एडीआर)के सचिव शैबल गुप्ता ने अपनी किताब में उसके द्वारा किए गए शोध को डाला है। उनसे बिना पूछे कॉपीराइट एक्ट का उल्लंघन करते हुए ऐसा किया गया। याचिका में मुख्यमंत्री को भी पक्ष बनाते हुए कहा गया कि उन्होंने इस किताब का विमोचन किया था। इसपर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाते हुए मुख्यमंत्री ने उन्हें इस मामले से अलग करने का अनुरोध किया था।