मनरेगा में मजदूरी बढ़ी सिर्फ एक रुपया


पटना : जेडीयू मुख्य प्रवक्ता और विधान पार्षद संजय सिंह ने बयान जारी करते हुए कहा है कि सुशील मोदी केंद्र सरकार की मेहरबानियों से इस बार बिहार में मनरेगा मजदूरों की मजदूरी में एक रुपये की बढ़ोतरी की गयी है। बिहार के मजदूरों पर आप लोगों की बड़ी कृपा रही है। इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। सुशील मोदी इस मसले पर चुप्पी साध लेते है। केंद्र सरकार बिहार के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है।

मनरेगा की मजदूरी में मात्र एक रुपये की बढ़ोतरी की गयी है। केंद्र सरकार बिहार के मजदूरों के साथ भेदभाव कर रही है। बिहार सुशील मोदी धनपशुओं की राजनीति कर रहे है वो गरीबों और मजदूरों के बारे सोचते तक नही है। सुशील मोदी अपने अंदर थोडी संवेदना जगाये और बिहार के मजदूरों के बारे में सोचें। सुशील मोदी को शायद पता नही है तो उनकी जानकारी के लिए बता दें किबिहार के मजदूरों को 168 रुपये मजदूरी मिलेगी।

ये मजदूरी अन्य राज्यों की तुलना में बिहार की मजदूरी में 100 रुपये का अंतर है। इसी वर्ष केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय कीओर से जारी अधिसूचना के अनुसार मनरेगा के तहत बिहार में दैनिक मजदूरी में एक रुपये बढ़ाई गयी है। बिहारमें न्यूनतम मजदूरी 181 रुपये हैए जबकि मनरेगा की दैनिक मजदूरी 168 रुपये पर अटकी हुई है।

सुशील मोदी बिहार में अपनी राजनीति तो करते है लेकिन बिहार के गरीब और मजदूरों के बारें बिलकुल नही सोचते है। बिहार में मनरेगा को लेकर केंद्र सरकार के उदासीन रवैया के कारण यहां से मजदूर बेबश है। रोज काम करके खाने वाले मजदूरों को मनरेगा का काम नही मिल पा रहा है।

केंद्र सरकार लगातार बिहार का बकाया राशि नही दे रही है। ऐसे में मजदूर किसी तरह से अपने जीवन यापन को चलाने के लिए मजबूर है और सुशील मोदी बिना ओर छोर की बातों को करके अपनी राजनीति कर रहे हैं। सुशील मोदी को उन मजदूरों की बिलकुल ही चिंता नही है कि उनके लिए वो केंद्र सरकार से बात करें।