मोदी के कार्यकाल में अर्थव्यवस्था सुधरी


पटना : पूर्व मुख्यमंत्री डा. जगन्नाथ मिश्र ने कहा कि प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल में देश की अर्थव्यवस्था को नयी दिशा मिली। लेकिन चुनौतियां भी बड़ी है। देश की आबादी तेजी से बढ़ी है। सरकार का लक्ष्य प्रतिवर्ष एक करोड़ नये जॉब उपलब्ध कराना है जो पूरा होता नहीं दिखाई देता। औद्योगिक विकास की गत में तेजी और किसानों की आय में भारी बढ़ोतरी के बिना यह संभव नहीं है। 2022 तक सरकार वादा कर रही है कि सबके लिए आवास की व्यवस्था की जायेगी।

इन्फास्ट्रक्चर का विकास हुआ, लेकिन आशानुकूल नहीं। बुलेट टे्रन की तैयारी हो रही है लेकिन गरीबों के लिए अनारक्षित रेल के डिब्बे की स्थिति, गाडिय़ों के समय पर न चलने अैर दुर्घटनाओं के कारण दुनिया की सबसे भारतीय रेल अभी समय से पीछे है। बड़ी संख्या में लघु और मध्यम उद्योग बंद हो गये हैं। कारिगर बेरोजगार हो गये हैं इन उद्योगों को देश को उतनी ही जरूरत है जितने बड़े उद्योग की।

डा. मिश्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नेदेश में निर्धनतम लोगों को लाभ पहुंचाने वाली समावेशी विकास और सरकारकी शीर्ष प्राथमिकता देने की बात लगातार कहते रहें हैं। उन्होंने केन्द्र व राज्य सरकारों के विभिन्न कार्यक्रमों के अवसर पर दिये गये अपने संदेश में लगातार कहा है कि देश की विकास का फायदा समाज के सभी तबकों तक नहीं पहुंच पाया है। गरीब वंचितों के सर्वांगीण विकास में योगदान नहीं हो पाया है। उन्होंने भारत के आर्थिक विकास को ज्यादा से ज्यादा समावेशी बनाने की बात कही है।