बिहार में सरकार बनाने के लिए नई रणनीति, जानिए किस पार्टी में है कितने विधायक !


बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर लगे करप्शन के आरोपों पर बड़ा फैसला लेते हुए आज अपने पद से इस्तीफा दे दिया | उन्होंने आज शाम अपना इस्तीफा बिहार राज्यपाल को सौपा , इस्तीफे के साथ साथ उन्होंने बिहार गठबंधन को भी तोड़ दिया | बिहार में अब सवाल यह है की वहाँ किस जुगाड़ तुगढ़ से सरकार बने राजनीतिक विश्लेषकों और पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम को देखें तो दूसरे विकल्प की संभावना ज्यादा नजर आती है और माना जा रहा है कि नीतीश ने इस्तीफे से पहले ही मुख्यमंत्री पद की अपनी कुर्सी सुरक्षित कर ली है |

नीतीश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है | अब बिहार राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी के सामने नई सरकार बनाने की चुनौती खडी हो गयी है | राजनितिक परंपरा के अनुसार राज्यपाल को विधानसभा में राज्ये की सबसे बड़े दल राष्ट्रीय जनता दल को सरकार बनाने को बुलाना चाहिए | माना यह भी जा रहा है की राज्यपाल इससे पहले आरजेडी से उसके समर्थक विधायकों की लिस्ट मांग सकते हैं | आंकड़े साफ हैं कि लालू की पार्टी के पास सरकार बनाने लायक विधायक नहीं हैं |

243 विधानसभा वाली बिहार विधानसभा में लालू प्रसाद यादव की राष्ट्रीय जनता दल को 80 सीटें मिलीं, जबकि कांग्रेस को 27 सीटें मिलीं विपक्षी भारतीय जनता पार्टी को 53 सीटें मिलीं, जनता दल यूनाइटेड को 71 सीटें मिलीं, बिहार विधानसभा में बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा 122 सीटों का है अगर नीतीश के 71 विधायकों के साथ बीजेपी के 53 विधायक जोड़ लिए जाएं तो आंकड़ा 124 तक हो जाता है। इसके अलावा एनडीए के घटक दल जैसे लोकजनशक्ति पार्टी के 2, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के 2, हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के 1 विधायक का समर्थन भी इस गठबंधन को मिलना तय है। ऐसे में राज्यपाल के पास फिर नीतीश कुमार ही विकल्प होंगे |