नीतीश आज करेंगे विधानसभा में बहुमत साबित


बिहार में गुरुवार को नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और आज सुबह 11 बजे बिहार विधानसभा में नीतीश अपना बहुमत साबित करेंगे। बिहार विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाया गया है जिसमें नई सरकार विश्वास मत हासिल करेगी। नीतीश ने सरकार बनाने का दावा पेश करते समय 132 विधायकों के समर्थन का पत्र दिया था। नीतीश को अब सदन में इन विधायकों का समर्थन हासिल करके दिखाना है।

अगर जेडीयू में किसी विधायक ने बीजेपी से हाथ मिलाने के खिलाफ बगावत नहीं की तो नीतीश के लिए बहुमत साबित करना मुश्किल नहीं होगा। इससे पहले बुधवार को महागठबंधन से इस्तीफा देने के बाद गुरुवार को नीतीश ने छठी बार बतौर बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ ही बीजेपी नेता सुशील मोदी ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली है।

जिसके बाद उन्होंने बिहार को तरक्की के रास्ते पर आगे ले जाने का वादा भी किया। नीतीश ने कहा, “जो भी फैसला लिया है बिहार के हित में लिया है।” उन्होंने कहा, ‘यह विकास और न्याय सुनिश्चित करेगा। यह प्रगति सुनिश्चित करेगा। यह सामूहिक निर्णय है। मैं यह सुनिश्चित करता हूं कि हमारी प्रतिबद्धता बिहार की जनता के प्रति है।’ बिहार विधानसभा के गणित पर नज़र डालें तो कुल विधायकों की संख्या 243 है। इस हिसाब से बहुमत का जादुई आंकड़ा 122 होता है।

सदन में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के विधायकों की संख्या 71 है, जबकि बीजेपी और उसके सहयोगी विधायकों की तादाद 61 है। इन्हें जोड़ दें तो नीतीश कुमार के पास कुल 132 विधायकों का समर्थन है, जिसकी मदद से वो बहुमत का आंकड़ा बड़ी आसानी से पार कर जाएंगे। दूसरी तरफ विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद रातों-रात विपक्ष में धकेल दिए गए लालू यादव की पार्टी आरजेडी के पास 80 विधायक हैं।

लालू का साथ दे रही कांग्रेस के विधानसभा में 27 सदस्य हैं। इन्हें मिला दें तो आंकड़ा 107 पर पहुंचता है। नीतीश कुमार बुधवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने और लालू यादव के साथ महागठबंधन को तोड़ने के बाद जब देर रात बीजेपी का दामन थामकर राज्यपाल के पास पहुंचे थे तो उन्होंने दोबारा सीएम की कुर्सी के लिए 132 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी थी।