लालू की जिद से राजनीतिक संकट


पटना : जन अधिकार पार्टी (लो) के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कहा है कि राजद प्रमुख लालू यादव की जिद के कारण बिहार की राजनीतिक स्थिति विकट हुई है। आज पटना में जारी बयान में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश ने राजनीतिक परिपक्वता और सहनशीलता का परिचय दिया है। गठबंधन धर्म और बिहार के जनादेश का ख्याल रखा है। गठबंधन को बचाये रखने में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का प्रयास भी सराहनीय है।

श्री यादव ने कहा कि लालू यादव 1990 और 2017 का अंतर समझने को तैयार नहीं हैं। जबकि लालू यादव को समय और परिस्थिति की विवेचना कर नैतिकता का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि लालू यादव की जिद ने बिहार की इमेज को फिर से बट्टा लगा दिया है। दुनिया देख रही है कि बिहार कास्ट और करप्शन से बाहर निकलने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि हालात ऐसे बन गये हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए निर्णय कर पाना बहुत कठिन हो गया है।

लेकिन अब राजनीति निर्णायक मोड़ पर पहुंच गयी है और मुख्यमंत्री के लिए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर फैसला करना जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि 18 जुलाई को बिहार कैबिनेट की होने वाली बैठक से पहले नीतीश कुमार कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। सांसद पप्पू यादव ने कहा कि 28 जुलाई से बिहार विधान सभा का मानसून सत्र शुरू हो रहा है। मुख्यमंत्री को फिर से विश्वास मत हासिल करने को भी तैयार रहना होगा।