महागठबंधन टूटने से गुस्साएं आरजेडी पर डीएम से मारपीट का आरोप


नीतीश कुमार ने अपने इस्तीफे के बाद बीजेपी के सहयोग से एक बार फिर मुख्यमंत्री के पद की शपथ ले ली है। नीतीश ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद महागठबंधन तोड़ने के अपने फैसले को सही ठहराते हुए पीएम नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया है। महागठबंधन टूटने के बाद जहां आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है। वहीं सूबे के कई हिस्सों में जनता ने विरोध प्रदर्शन किया। सारण में प्रदर्शन कर रहे आरजेडी कार्यकर्ताओं पर जिलाधिकारी के साथ मारपीट का भी आरोप लगा।

दरअसल, सारण में नीतीश कुमार के खिलाफ आरजेडी कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। इसी दौरान पहलेजा दीघा पुल पर लगे जाम में जिलाधिकारी हरिहर प्रसाद की गाड़ी फंस गई। जिलाधिकारी जब प्रदर्शनकारियों को समझाने का प्रयास कर रहे थे तो इसी दौरान कुछ लोगों ने उनके सुरक्षा कर्मियों पर पथराव शुरू कर दिया। जिसके बाद जिलाधिकारी वहां से जान बचाकर निकलना पड़ा। जब डीएम निकल रहे थे तो कई प्रदर्शनकारियों ने बांस से उन पर हमला बोल दिया।

वहीं दूसरी तरफ आरजेडी नेताओं ने पटना में महात्मा गांधी सेतु पर प्रदर्शन किया और जाम लगाया। इस दौरान उन्होंने नीतीश कुमार के खिलाफ नारेबाजी भी की। यहां तक कि नीतीश का नाम बदलकर कुर्सी कुमार रख दिया। वैशाली में भी आरजेडी कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया।

र्व डिप्टी सीएम और आरजेडी विधायक तेजस्वी यादव के विधानसभा क्षेत्र राघोपुर में भी आरजेडी कार्यकर्ताओं ने नीतीश कुमार मुर्दाबाद के नारे लगाए। वहीं उनके भाई तेजप्रताप के विधानसभा क्षेत्र महुआ में भी नीतीश के खिलाफ नारेबाजी की गई। समस्तीपुर में भी प्रदर्शन कर रहे आरजेडी कार्यकर्ताओं ने दरभंगा जाने वाले मुख्य मार्ग पर जाम लगाया।