नीतीश की मौजूदगी वाले कार्यक्रम में नहीं आए तेजस्वी, मंच से हटाई नेम प्लेट


बिहार महागठबंधन में तकरार बेहद बढ़ती जा रही है। महागठबंधन और तेजस्वी यादव के इस्तीफे की चर्चाओं के बीच आज बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव एक ही मंच पर आमने सामने होने वाले थे, लेकिन तेजस्वी कार्यक्रम में नहीं पहुंचे।

Source

पटना के ज्ञान भवन में वर्ल्ड यूथ स्किल डे के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में नीतीश को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया गया है। इस मंच पर तेजस्वी के लिए कुर्सी और नेम प्लेट रखी गई थी।

Source

लेकिन आखिरी समय में उनका आना कैंसिल हो गया फिर नेम प्लेट को नीले रंग के पेपर से ढक दिया गया। बाद में नेमप्लेट को मंच से ही हटा दिया गया। इसे लेकर कई तरह के कयास लगाये जा रहे हैं।

Source

ऐसा भी कहा जा रहा है कि आखिरी वक्त पर नहीं आना एक तरह से बायकॉट जैसा है। तेजस्वी के इस कदम से ये तो साफ हो गया है कि वो अपने इस्तीफा ना देने की बात पर अडे हुए हैं।

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल, राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी बिहार के डिप्टी सीएम हैं और सीबीआई ने लालू के साथ-साथ तेजस्वी और परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार मामला दर्ज किया है। सीबीआई ने 7 जुलाई को पटना सहित देशभर के 12 स्थानों पर छापेमारी की थी। लालू यादव ने संपत्ति का ब्यौरा सार्वजनिक नहीं करने और आरोपों पर सार्वजनिक सफाई देने से इंकार कर जेडीयू को संकेत दे दिया है कि वो अब बहुत ज्यादा झुकने के मूड में नहीं है। ऐसे में अब महागठबंधन का भविष्य नीतीश के आखिरी फैसले पर निर्भर है।

तेजस्वी के इस्तीफे से लालू का साफ इंकार..

इसी बीच लालू यादव ने साफ कर दिया है कि उनके बेटे तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे। लालू ने जेडीयू से साफ कह दिया है कि उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव अपने पद से कतई इस्तीफा नहीं देंगे। साथ ही लालू ने जेडीयू की तरफ से अपनी संपत्ति का ब्यौरा सार्वजनिक करने की मांग भी खारिज कर दी है। लालू के इस बयान के बाद राजद-जेडीयू के बीच दरार और बढ़नी तय है।