इस्तीफे की मांग कोई मुद्दा नहीं


पटना : बिहार में सत्तारूढ़ महागठबंधन को बचाने की कवायद के बीच बड़े घटक राष्ट्रीय जनता दल (राजद) विधायक दल के नेता एवं उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि उनके इस्तीफे की मांग कोई मुद्दा नहीं है बल्कि यह सिर्फ मीडिया की देन है। श्री यादव ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उनके ऊपर लगे कथित आरोप के संबंध में वह कई बार जवाब दे चुके हैं। इसमें अब बोलने के लिए कुछ नहीं रह गया है। उन्होंने कहा कि यह बात केवल मीडिया में ही चल रही है।

उप मुख्यमंत्री श्री यादव ने केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की ओर से उनके खिलाफ दर्ज की गयी प्राथमिकी को लेकर इस्तीफे के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि यह कोई मुद्दा नहीं है। सिर्फ मीडिया की ही देन है। इस बीच महागठबंधन के प्रमुख घटक जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के विधायक श्याम बहादुर सिंह ने एक बार फिर कहा कि उप मुख्यमंत्री श्री यादव इस्तीफा कर दें नहीं तो उन्हें बर्खास्त कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि बच्चा (श्री यादव) के बगल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बैठते हैं यह अच्छा नहीं लगता है। जदयू विधायक ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह मुख्यमंत्री श्री कुमार पर अधिकारियों के तबादले को लेकर दबाव बनाते रहते हैं, जो ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि अब गठबंधन में बने रहना उचित नहीं होगा और इसी में सबकी भलाई भी है।

उल्लेखनीय है कि उप मुख्यमंत्री श्री यादव के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो के प्राथमिकी दर्ज करने के बाद जदयू ने विधानमंडल दल की बैठक कर उन्हें जनता के बीच जाकर लगे सभी आरोपों का तथ्यपरक जवाब देने का मौका दिया था वहीं, पिछले सप्ताह राजद अध्यक्ष श्री यादव ने प्राथमिकी को वाजिब कारण नहीं मानते हुए स्पष्ट कर दिया था कि तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे।

जदयू के प्रदेश प्रवक्ताओं की ओर से इस विषय पर कोई बयान नहीं आया पर पार्टी विधायक श्याम बहादुर सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा, ‘गठबंधन टूट जाए तो अच्छा है..। भाजपा के साथ काम करने में मजा आता है।’ कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान और पार्टी विधान पार्षद दिलीप चौधरी ने सुझाव दिया कि महागठबंधन (जदयू,राजद,कांग्रेस) के वरिष्ठ नेताओं को समाधान निकालने के बातचीत करनी चाहिए।