हड्डी रोग विशेषज्ञों और रेडियोलॉजिस्टों की गोष्ठी 14 मई को


पटना : पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) और बिहार ऑर्थोपेडिक एसोसिएशन (बीओए) की ओर से 14 मई को राजधानी पटना में एक शैक्षिक गोष्ठी का आयोजन किया गया है जिसमें घुटने की तकलीफ झेल रहे मरीजों के बेहतर इलाज के लिए हड्डी रोग विशेषज्ञ और रेडियोलॉजिस्ट नई तकनीक की जानकारी साझा करेंगे। बीओए के अध्यक्ष और पीएमसीएच के हड्डी रोग के विभागाध्यक्ष  डॉ. वी.के.सिन्हा, बीओए के सचिव  डॉ. राजीव आनंद और जाने माने हड्डी रोग विशेषज्ञ  डॉ. अमुल्य कुमार ङ्क्षसह ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि 14 मई को पटना में शैक्षिक गोष्ठी का आयोजन किया गया है जिसमें घुटने की रेडियोलॉजी पर रेडियोलॉजिस्ट और हड्डी रोग विशेषज्ञ नई तकनीक की जानकारी साझा करेंगे। उन्होंने कहा कि हड्डी रोग के शल्य चिकित्सकों और रेडियोलॉजिस्टों के बीच संवाद जरूरी है ताकि दोनों मरीज की तकलीफ के संबंध में सटीक जानकारी को लेकर एक दूसरे की अपेक्षाओं को पूरा कर सकें।

 डॉ. सिन्हा ने बताया कि कई मामलों में चिकित्सक मरीज के एक्स रे, एमआरआई, सीटी स्कैन और अल्ट्रा साउंड के प्लेट को नहीं बल्कि रिपोर्ट को देखकर मरीज का इलाज करता है। रिपोर्ट और वास्तविक स्थिति में कई बार थोड़ा – बहुत अंतर रहता है जिससे कठिनाई उत्पन्न होती है। उन्होंने कहा कि रेडियोलॉजिस्ट अपने क्षेत्र में माहिर होते हैं और शल्य चिकित्सक अपने क्षेत्र में। ऐसे में एक दूसरे के चिकित्सकीय ज्ञान को समझने के लिए दोनों के बीच संवाद का होना जरूरी है। इससे अंतिम लाभ मरीज का ही होगा और यही हड्डी रोग विशेषज्ञ और रेडियोलॉजिस्ट का उद्देश्य भी होता है। बीओए के अध्यक्ष ने बताया कि इस गोष्ठी में पीजीआई चंडीगढ की प्रो. डॉ. अनिन्दिता सिन्हा, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पटना के  डॉ. प्रेम कुमार, जाने माने रेडियोलॉजिस्ट डॉ. अमर कुमार, डॉ. मिथिलेश प्रताप और  डॉ. मधुकर दयाल के अलावा राज्य के 100 से अधिक हड्डी रोग विशेषज्ञ हिस्सा लेंगे।

– वार्ता