किस मुंह से जनता के पास जाएंगे तेजस्वी


पटना : जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा है कि जनता से वायदे करके और वोट लेकर परिवार के पोषण और निजी स्वार्थपूर्ति में लग जाने के बाद किस मुंह से जनता के बीच जाया जा सकता है। तेजस्वी यादव अपने ऊपर आरोप लगते ही इस्तीफा देकर सरकार से सहयोग करते और जनता के बीच गए होते तो कुछ सहानुभूति अर्जित भी कर लेते। लोगों को जाति, कुनबों और धर्मों में बांटकर सत्ता सुख भोगने और बेहिसाब धन-संपदा जमा करने का जमाना अब नहीं रहा। बिहार की जनता जागरूक है और सच-झूठ तथा सही-गलत का फर्क करना जानती है।

सामाजिक न्याय, सामाजिक समरसता, भ्रष्टाचार व धर्मनिरपेक्षता आदि पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी का ट्रैक रिकॉर्ड सबको पता है। श्री प्रसाद ने कहा कि झूठ का भ्रमजाल फैलाने से बिहार की जनता अब किसी के झांसे में नहीं आने वाली। बिहार को प्रगति पथ पर ले जाने वाले नीतीश कुमार जी सजग चौकीदार की तरह बिहार की सेवा करते आ रहे हैं।

उनके राज में कोई कल्पना भी नहीं कर सकता कि भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस रखने वाले नीतीश जी ऐसी किसी गड़बड़ी पर आंखें मूंदे भी रह सकते हैं। राजनीति में जन-संपर्क करना अच्छा हैय मगर बेहिसाब संपत्ति अर्जित करने जैसे कानूनी मसलों को राजनीतिक पर्दे से ढंकना कानून और जनताए दोनों को धोखा देने के समान है। बिहार की कायापलट करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर राज्य की जनता को गुमान है। यह किसी के बहकाने या बरगलाने से नहीं बदलने वाला।