बिहार बोर्ड की इंटर परीक्षा के पहले ही दिन पहली बिहार बोर्ड की परीक्षा को लेकर सारी तैयारियां फेल कर गई हैं। आपको बता दे कि पहले ही दिन पहली पाली में जीव विज्ञान की परीक्षा शुरू होने के आधे घंटे के बाद ही प्रश्नपत्र वायरल होने की खबर से हड़कंप मच गया और बाद में जब नवादा से वायरल प्रश्नपत्र का मिलान किया गया तो सूचना सही पाई गई।

परीक्षा खत्म होने के बाद नवादा जिले के जिलाधिकारी कौशल कुमार ने बताया कि जांच के बाद प्रश्नपत्र वायरल होने की खबर सही है और जांच के बाद इसकी पुष्टि होगी कि प्रश्नपत्र कहां से वायरल हुआ है। उन्होंने कहा कि मिलान के बाद प्रश्नपत्र सही पाए गए हैं और अब इसकी पूरी जांच की जाएगी।

वही इसी को लेकर बिहार में प्रतिपक्ष के नेता और पूर्व डिप्टी सीएम तेजप्रताप यादव ने इंटर पेपर लीक मामले पर नीतीश सरकार को आड़े हाथ लिया हैं। उन्होंने परीक्षा रद्द करने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने शिक्षा विभाग को चौपट कर दिया है। पेपर लीक होना सरकार की विफलता है। परीक्षा लिक होने के बाद भी परीक्षा क्यों लिया गया। मुख्यमंत्री एक परीक्षा तक सही नहीं करा पा रहे हैं। पेपर लीक कर पैसा कमाने का काम किया जा रहा है।

आपको बता दे कि इससे पहले बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने Biology का प्रश्नपत्र लीक होने की खबर को पूरी तरह अफवाह बताया था। कहा था कि प्रश्नपत्र के कई सेट बनाए गए हैं और कौन सा प्रश्नपत्र लीक हुआ है इसकी पुष्टि तो परीक्षा खत्म होने के बाद प्रश्नपत्र के मिलान के बाद ही की जाएगी. परीक्षा खत्म होने के बाद इसकी सच्चाई नवादा जिला प्रशासन ने इसकी पुष्टि कर दी है।

पिछले दो-तीन साल से फजीहत झेल रहे बिहार बोर्ड ने दावा किया था कि इस बार परीक्षा कदाचार मुक्त कराई जाएगी और पूरी कड़ाई से ली जाएगी, लेकिन पहले दिन का पेपर आउट होने के साथ ही इन दावों की पोल खुल गई है।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पढ़े पंजाब केसरी अख़बार।