भाजपा ने कांग्रेस के विरोध में दिया धरना


शिवपुरी : एचडीएफसी बैंक के सामने कांग्रेस केखिलाफ भाजपा द्वारा किए जा रहे देशव्यापी धरना प्रदर्शन के क्रम में भाजपा ने शिवपुरी में एचडीएफसी बैंक के सामने माधव चौक पर धरना प्रदर्शन किया। धरना प्रदर्शन कांग्रेस द्वारा संसद न चलने के विरोध में किया गया।

धरना प्रदर्शन में बोलते हुए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और सांसद प्रभात झा ने अपने उदबोधन में कहा कि कांग्रेस ने 5 मार्च से 6 अप्रैल तक एक दिन में एक मिनिट भी संसद नहीं चलने दी। जबकि लोकसभा और राज्यसभा में प्रति घंटे का खर्च लगभग डेढ़ करोड़ रूपए है और 23 दिनों में संसद न चलने के कारण देश को 160 करोड़ रूपए का नुकसान उठाना पड़ा।

कांग्रेस के इसकृत्य के विरोध में जनता को अवगत कराने के लिए भाजपा द्वारा देशव्यापी धरना दियाजा रहा है। क्षेत्रीय सांसद पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इजलाईल से आई 39 भारतियों की शवों पर भी राजनीति की और उनको श्रद्धांजलि देने का विरोध किया इससे बड़ी विडम्बना और क्या होगी ये हैं कांग्रेसियों की सोच। पिछले चार साल में राहुल गांधी के नेतृत्व में भाजपा के 11 राज्यों में सरकार बनाई है।

कांग्रेस की नीतियों की बजह से इस बार संसद में 8 घंटे भी कार्य नहीं हो पाया जबकि पिछले सत्र में 96 फीसदी कार्य हुआ। भाजपा जिलाध्यक्ष सुशील रघुवंशी ने धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुएकहा कि कांग्रेस को देशभर की जनता ने नकार दिया है। इसके वाबजूद वह इसे स्वीकार्य करने की नैतिकता नहीं दिखा पा रही है और कुंठाओं के वसीभूत देश संसदीय लोकतंत्र को भी कंलकित करने को उतारू है।

इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि प्रधानमंत्री जीको भी बोलने से रोका गया है एक बार ही नहीं निरंतर रोका गया। जो कभी संसद में नहीं हुआ। सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर भी कसकर निशाना साधे गए।

भाजपा के धरनाप्रदर्शन में प्रमुख रूप से भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और सांसद प्रभात झा केअलावा राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त राजू बाथम, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सुरेंद्र शर्मा, जिलाध्यक्षसुशील रघुवंशी, धैर्यवर्धन शर्मा, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष मुकेश सिंह चौहान, पूर्वविधायक वीरेंद्र रघुवंशी, कामता प्रसाद बेमटे, ओमप्रकाश खटीक आदि ने अपने विचार रखे। धरना प्रदर्शन का संचालन पूर्व विधायक नरेंद्र बिरथरे ने कियाजबकि आभार प्रदर्शन जिला महामंत्री ओमी गुरू ने किया।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पड़े पंजाब केसरी अख़बार