बाबरी मस्जिद विध्वंस की 26वीं बरसी पर भाजपा के कई नेताओं ने जहां राम मंदिर बनाने की पुरजोर वकालत की वहीं वामपंथी दलों और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को बनाए रखने का आह्वान किया।

हिंदुत्व के मुद्दों पर भाजपा के प्रहार को कुंद करने के लिए कांग्रेस अपने हिंदुत्व समर्थक चेहरे को उजागर करने के प्रयास के तहत मामले में चुप्पी साधे रही।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से ‘‘अपील’’ की कि वह राम मंदिर के निर्माण का समर्थन करें ताकि दत्तात्रेय ब्राह्मण और जनेरू का ‘‘सम्मान’’ रह जाए। वह रामजन्मभूमि आंदोलन की प्रमुख नेताओं में शुमार रही हैं।

बुलंदशहर हिंसा मामले में CM योगी आदित्यनाथ ने PM मोदी से की मुलाकात

वह कांग्रेस नेताओं को उन दावों का हवाला दे रही थीं जिनमें गांधी को ‘‘जनेऊधारी हिंदू’’ बताया गया था और हाल में एक धार्मिक समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष को दत्तात्रेय ब्राह्मण बताया गया था।

संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा कि विभिन्न समूहों के बीच समन्वय बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं ताकि अयोध्या में विवादित स्थान पर मंदिर बनाया जा सके। उन्होंने कांग्रेस पर माहौल को खराब करने के आरोप लगाए। कांग्रेस की तरफ से कोई बयान नहीं आया।

उत्तरप्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए भाजपा संबंधित पक्षों के बीच हुए समझौते को उच्च प्राथमिकता देती है।

मौर्य ने कहा, ‘‘भाजपा या तो उच्चतम न्यायालय के फैसले से या परस्पर समझौते से राम मंदिर निर्माण के पक्ष में है। और अगर दोनों विकल्प खत्म हो जाते हैं तो फिर विधायी मार्ग को अपनाया जाना चाहिए। भाजपा राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करने के लिए समझौते को उच्च प्राथमिकता देती है।’’

राम मंदिर बनाने की मांग के बीच वामपंथी दलों ने राष्ट्रीय राजधानी में विरोध मार्च निकाला जहां माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने सत्तारूढ़ भाजपा और इसके हिंदुत्व के विचारक संगठन आरएसएस पर देश के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को ‘‘खत्म’’ करने के लिए काम करने का आरोप लगाया।

भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि भगवा दल ने सार्वजनिक रूप से घोषणा की है कि वह अयोध्या जमीन मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का सम्मान करेगा लेकिन अब वे मामले में अध्यादेश लाने की बात करते हैं।

उन्होंने आरोप लगाए कि पिछले चार वर्ष सात महीने तक भाजपा मंदिर मुद्दे पर ‘‘चुप’’ थी और अगले आम चुनाव को नजदीक देखते हुए इस मुद्दे को उठा रही है।

भाजपा की प्रखर आलोचक और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने ट्वीट किया कि बाबरी मस्जिद विध्वंस को राज्य में ‘‘सहमति दिवस’’ (एकता दिवस) के रूप में मनाया जा रहा है।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘जिस तरह से मानव का शरीर सभी अंगों के बिना अपूर्ण है उसी तरह भारत सभी समुदायों, धर्मों, जातियों और लिंगों के बगैर अधूरा है। हम देश के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को बरकरार रखने का संकल्प लें।’’

भाकपा के महासचिव डी. राजा ने आरोप लगाए कि आरएसएस, विहिप और संघ परिवार से जुडे़ अन्य संगठन देश के स्वरूप को बदलने पर तुले हुए हैं।

विश्व हिंदू परिषद् ने कहा कि वह ‘गीता जयंती’ के दिन से जनसंपर्क अभियान की शुरुआत करेगी जो इस महीने मनाई जानी है। भाजपा विधायक संगीत सोम ने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले राम मंदिर बनेगा और उन्होंने हिंदुओं के बीच एकता का आह्वान किया।

विहिप और बजरंग दल ने इस दिवस के उपलक्ष्य में कई स्थानों पर पटाखे छोड़े जबकि मुस्लिम संगठनों ने प्रदर्शन किया। अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य खालिद राशिद फिरंगीमहली ने लखनऊ के जिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा जो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम था। ज्ञापन में उन्होंने न्याय की मांग की।

पांच वामपंथी दलों ने छह दिसम्बर को ‘संविधान बचाओं और धर्मनिरपेक्ष दिवस’ के तौर पर मनाया।