कर्नाटक में सरकार बनाने को लेकर सस्पेंस खत्म हो गया है। बीजेपी विधायक सुरेश कुमार ने दावा किया है कि राज्यपाल ने बीजेपी को कर्नाटक में सरकार बनाने का न्यौता दिया है। सुरेश कुमार के मुताबिक कल सुबह 9.30 बजे येदुरप्पा का शपथ ग्रहण होगा। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “बीएस येदुरप्पा कल सुबह 9.30 बजे राजभवन में सीएम पद की शपथ लेंगे। इस सुख की घड़ी में भाग लेने के लिए बड़ी संख्या में जुड़ें।” हालांकि इस बारेे में आधिकारिक रुप से राज्यपाल की तरफ से अभी कोई बयान नहीं आया है।

कल विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित हुए। इसमें बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। कांग्रेस को 78 सीटें मिली, डेजीएस 38 सीटों पर कब्जा ज़माने में कामयाब रही वहीं अन्य को दो सीटें मिलीं। सरकार बनाने के लिए किसी को भी पूर्ण बहुमत नहीं मिला। सरकार बनाने के लिए 112 सीटें होनी चाहिए। ऐसे में अगर कांग्रेस की 78 और जेडीएस की 38 सीटों को मिला दिया जाए तो कुल आंकड़ा 116 हो जाएगा जो बहुमत के आंकड़े से चार सीटें ज्यादा है। कल नतीजे आने के बाद मामला उस समय दिलचस्प हो गया जब कांग्रेस ने कहा कि वो जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेगी। आज दोनों पार्टियों ने राज्यपाल के साथ मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। कांग्रेस ने कहा कि अगर जेडीएस के साथ गठबंधन में उनकी सरकार बनती है तो जेडीएस के अध्यक्ष कुमारस्वामी कर्नाटक के सीएम बनेंगे।

आज दिनभर सरकार बनाने को लेकर कर्नाटक में खूब ड्रामा हुआ। बीजेपी के बीएस येदियुरप्पा ने कहा, ”हम सबसे बड़ी पार्टी हैं और ऐसे में सरकार बनाने का मौका मिलना चाहिए। बीजेपी 100 प्रतिशत सरकार बनाएगी और विधानसभा में बहमत भी साबित करेगी।’’ तो वहीं जेडीएस के कुमारस्वामी ने दावा किया है कि बीजेपी ने उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है और 100 करोड़ का ऑफर भी दिया है। खरीद फरोख्त की खबरों से कांग्रेस सकते में आ गई और अपने विधायकों को खरीद फरोख्त से बचाने के लिए रिजॉर्ट भेज दिया। विधायकों को रिजॉर्ट ले जाने की जिम्मेदारी डीके शिवकुमार को दी गई। गुजरात इलेक्शन के दौरान भी शिवकुमार ही विधायकों को बेंगलुरू के रिसॉर्ट ले गए थे। कांग्रेस पर खरीद फरोख्त का आरोप लगाते हुए कांग्रेस नेता एमबी पाटिल ने कहा, ”हमारी पार्टी में कोई नाराजगी नहीं है। बीजेपी विधायकों को खरीदना चाहती है जो मह नहीं हेन देंगे।राज्यपाल को पहले हमें बुलाना चाहिए।”

आज जेडीएस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के खिलाफ राजभवन के बाहर हंगामा भी किया। कांग्रेस-जेडीएस कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ नारेबाजी की। बीजेपी को मिले सराकर बनाने के न्योते के बाद कांग्रस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस फैसले का विरोध किया. कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा, ”जेडीएस और कांग्रेस ने राज्यपाल से मुलाकात कर पूर्ण बहुमत का दावा किया है।हमने सदस्यों के नाम की लिस्ट भी सौंपी है। हमने उन्हें सुप्रीम कोर्ट के फैसले की कॉपी भी सौंपी है। वो संविधान और सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बंधे हुए हैं।” आपको बता दें कि कर्नाटक में कुल 224 विधानसभा की सीटें हैं, उनमें से 222 सीटों पर 12 मई को 72.13 फीसदी मतदान हुआ था। आर.आर नगर सीट पर चुनावी गड़बड़ी की शिकायत के चलते मतदान स्थगित कर दिया गया था। जयनगर सीट पर बीजेपी उम्मीदवार के निधन के चलते मतदान टाल दिया गया था।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।