लोकसभा में भाजपा के एक सदस्य ने देश में लाखों की संख्या में बेसहारा और अनाथ बच्चों के मुद्दे को उठाया और सरकार से मांग की कि इन वंचित बच्चों को आरक्षण का लाभ प्रदान करने के लिये संसद में विधेयक लाया जाए। शून्यकाल के दौरान भाजपा सदस्य राघव लखनपाल ने इस विषय को उठाते हुए कहा कि देश में करीब दो करोड़ ऐसे बच्चे हैं जो अनाथ और बेसहारा हैं। इनकी स्थिति दयनीय है।

उन्होंने कहा कि इन बच्चों को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए क्योंकि ये वंचित बच्चे हैं । इस विषय पर उच्चतम न्यायालय में एक जनहित याचिका भी दायर की गई है जिसमें ऐसे बच्चों को जीवन और समानता का अधिकार सुनिश्चित करने की मांग की गई है।

 लखनपाल ने कहा कि ऐसे बच्चों का एक आधिकारिक सर्वेक्षण कराये जाने और इनके उचित देखरेख एवं सुरक्षा की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक विधेयक लाया जाए ताकि इन बच्चों को आरक्षण का लाभ प्राप्त हो सके।

 शून्यकाल में ही भाजपा के भैरव प्रसाद मिश्रा ने अपने क्षेत्र में कैंसर रोगियों की समस्या का जिक्र करते हुए कहा कि उनके संसदीय क्षेत्र (बांदा, उप्र) में कैंसर रोगी बड़ी संख्या में हैं। लेकिन आसपास कोई सिकाई केंद्र नहीं है।

उन्होंने मांग की कि इस क्षेत्र में ऐसे मरीजों के उपचार के लिए एक केंद्र खोला जाए। तृणमूल कांग्रेस के अनुपम हाजरा ने कहा कि केंद्रीय विश्वविद्यालय विश्वभारती में पिछले तीन – चार साल से प्रभारी कुलपति के जरिए संचालित किया जा रहा है। इसलिए वह मानव संसाधन विकास मंत्री से शीघ्र ही एक पूर्णकालीन कुलपति नियुक्त करने का अनुरोध करते हैं।

लोकसभा ने जीएसटी कानून में संशोधन संबंधी चार विधेयकों को मंजूरी दी