एआईएडीएमके के दोनों गुट हो सकते है बीजेपी में शामिल


तमिलनाडु में जयललिता के निधन के बाद दो टुकड़ों में बंटी उनकी पार्टी एआईएडीएमके फिर से एक हो सकती है। शशिकला के भतीजे दिनाकरन के खिलाफ मुख्यमंत्री पलानीसामी और पूर्व मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम इस हफ्ते के आखिर तक हाथ मिला सकते हैं। मुख्यमंत्री ई. पलनिसामी के अगुवाई वाले धड़े की गुरुवार को चेन्नई के पार्टी मुख्यालय में बैठक हुई। कहा जा रहा है कि इसी मीटिंग में शशिकला और उनके भतीजे दिनाकरन की पार्टी से विदाई की स्क्रिप्ट लिखी गई। हालांकि, मौजूदा सीएम ई पलानीस्वामी अपने पद पर बरकरार रहेंगे, वहीं पूर्व सीएम ओ पनीरसेल्वम उपमुख्यमंत्री बन सकते हैं ।

तमिलनाडु के मंत्री डी. जयकुमार ने दोनो धड़ों के एक साथ होने की बात पर पूरा विश्वास जताते हुए कहा है कि हम उम्मीद करते हैं कि ऐसा होगा। मुख्यमंत्री पलनिसामी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में पारित प्रस्ताव में कहा गया कि शशिकला के सहायक के तौर पर दिनाकरन की नियुक्ति पार्टी के उप नियमों के खिलाफ है और पार्टी महासचिव पद पर शशिकला की नियुक्ति नया प्रमुख चुने जाने तक के लिए थी। जयललिता कैंप का यह भी आरोप है कि दिनाकरन की हाल ही में की गई नियुक्तियां केवल पार्टी के पदों में गलतफहमियां पैदा करने के लिए है। पार्टी हेडक्वार्टर में हुई मीटिंग में कहा गया कि जयललिता ने दिसंबर 2011 में ही दिनाकरन को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से हटा दिया था। ऐसे में 14 फरवरी को उन्हें पार्टी में वापस लिया जाना और उन्हें अगले ही दिन उप महासचिव का पद दिया जाना पार्टी के उप नियम(5) के खिलाफ है।

वही इस महीने के आखिर में बीजेपी चीफ अमित शाह तमिलनाडु की यात्रा पर होंगे। पार्टी जॉइन करने वाले संभावित नेताओं में पूर्व मंत्री और एआईएडीएमके नेता एन नागेंद्रन भी हैं। वह राजनीतिक तौर पर बेहद प्रभावशाली माने जाने वाले थेवर समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। बीजेपी चीफ अमित शाह 22 अगस्त को अपने तीन दिवसीय यात्रा के दौरान तमिलनाडु पहुचेंगे। बीजेपी अध्यक्ष चेन्नै और कोयंबटूर में पार्टी नेताओं के साथ बैठक करेंगे।

वही गौरतलब है कि पिछले काफी समय से एआईएडीएमके के एनडीए में शामिल होने की अटकलें चल रही हैं। इससे पहले खबर आई थी कि वहीं मोदी सरकार के एक कैबिनेट मंत्री एआईएडीएमके के दोनों धड़ों प्लानीस्वामी और पन्नीरसेल्वम के बीच मध्यस्थता में जुटे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि अगर यह बातचीत सफल रहती है। तो तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी एनडीए सरकार में शामिल हो जाएगी।