आज हम आपको बताने जा रहे है भारत में मुगल साम्राज्य के बारे में जिसका इतिहास अब कब्र में दफन कर दिया गया है जी हाँ , जैसा कि आप सभी जानते है कि भारत के ऊपर कई विदेशी ताकतों ने हमला किया। सबने भारत पर राज भी किया और यहाँ की संस्कृतियों के साथ जमकर खिलवाड़ भी किया। पर भारत पर सबसे ज्यादा राज मुगल साम्राज्य का रहा है। और यहाँ की संस्कृति को सबसे ज्यादा नुकसान भी मुगलों ने ही पहुँचाया है । लेकिन अब इनका इतिहास कब्र में दफ़न कर दिया गया है ।

Source

बता दे कि महाराष्ट्र शिक्षा बोर्ड ने इतिहास के पाठ्यक्रम में से मुगल साम्राज्य से जुड़े अध्यायों को हटाना शुरू कर दिया है। इस साल के लिए बोर्ड द्वारा संशोधित किताबों में स्कूल के 7वीं से 9वीं कक्षा तक के छात्रों के इतिहास के पाठ्यक्रम में मराठा साम्राज्य पर जोर दिया गया है जबकि मुगल साम्राज्य पाठ्यक्रम से नदारद है।

Source

खबरों के मुताबिक 7वीं कक्षा की किताब में से उन अध्यायों को हटाया गया है जैसा कि 7वीं कक्षा की किताब में अकबर को जानकारी दी गई है अकबर मुगल वंश का सबसे शक्तिशाली राजा था।

Source

आपको बता दें कि इसमें अकबर के शासन काल को तीन लाइनों में ही समाप्त कर दिया गया है । पुस्तक में अकबर के बारे में इतना ही लिखा गया है । अकबर मुग़ल वंश का सबसे शक्तिशाली राजा था।

Source

जब उसने भारत को एक केन्द्रीय सत्ता के अधीन लाने की कोशिश की तो उसे कड़े विरोध का सामना करना पड़ा था। महाराणा प्रताप, चाँद बीबी और रानी दुर्गावती ने उनके खिलाफ संघर्ष किया था। उन लोगों का संघर्ष उल्लेखनीय है।

Source

बता दें कि महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड द्वारा लाए गए नए पाठ्यक्रम नौंवीं कक्षा के इतिहास कि किताब में बोफोर्स घोटाला और 1975 में लगे इमरजेंसी का जिक्र किया गया है। सरकार का कहना है कि अब बच्चों को मॉडर्न इतिहास के बारे में बताना जरुरी है।

Source

वही इस पुस्तक में रूपये का भी उल्लेख नहीं किया गया है। बता दें कि सबसे पहले अफगान आक्रान्ताओं ने रूपये को जारी किया था जो अब तक चलन में है। महाराष्ट्र राज्य शिक्षा की पुस्तक में दिल्ली में शासन करने वाली पहली महिला रजिया सुल्तान, मुहम्मद बिन तुगलक के दिल्ली से दौलताबाद राजधानी शिफ्ट करने, विमुद्रीकरण और भारत से हुमायूँ को भागने पर मजबूर करने वाले शेर शाह सूरी के पैराग्राफ भी हटा दिए गए हैं।

आपको बात दें कि वही इतिहास विषय के कमिटी के सदस्य बापूसाहेब शिंदे ने बताया है कि पिछले साल नए पाठ्यक्रम को लेकर महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े के साथ रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी में मीटिंग हुई थी। जिसमे उन्होंने कहा गया था कि बच्चों को मॉडर्न इतिहास के बारे में बताना जरुरी है,और आने वाले नयी पुस्तक में अब मुगलों के इतिहास को काम किया जाए।