कोलकाता हाईकोर्ट के पूर्व जज सीएस कर्णन ने बुधवार को अपना राजनीतिक दल बनाने की घोषणा की और कहा कि उनका दल अगले आम चुनावों में केवल महिला उम्मीदवारों को मुकाबले में उतारेगा। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी वाराणसी सहित पूरे देश में चुनाव लड़ेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वाराणसी से सांसद हैं। न्यायमूर्ति कर्णन ने कहा, ‘‘मेरी पार्टी आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव में हिस्सा लेगी। हम सीटों की संख्या पर फैसला करेंगे लेकिन केवल महिला प्रत्याशियों को ही मैदान में उतारेंगे।”

उन्होंने कहा, ‘‘हम अपनी पार्टी के पंजीकरण के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त से संपर्क कर रहे हैं।’’ कर्णन ने कहा कि वे चाहते हैं कि देश से भ्रष्टाचार का खात्म हो। बता दें कि जस्टिस कर्णन 8 मई 2017 को उस समय विवादों में आए थे, जब उन्होंने खुद को अवमानना के मामले में तलब करने पर अपनी अदालत में सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस जेएस खेहर और अन्य सात जजों को SC/ST एक्ट के तहत 5 साल के कठोर श्रम वाले कारावास की सजा सुना दी थी। अगले दिन सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 6 महीने की सजा सुनाई थी, जिसके बाद वे फरार हो गए थे।

बाद में उनके रिटायरमेंट के बाद 21 जून को कोलकाता पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। जस्टिस कर्णन को जेल से 20 दिसंबर को रिहा किया गया था। अपनी पार्टी के गठन की घोषणा करते हुए जस्टिस कर्णन ने बुधवार को कहा, मेरी पार्टी 2019 के लोकसभा चुनाव में हिस्सा लेगी। हम सीटों की संख्या बाद में तय करेंगे, लेकिन केवल महिला उम्मीदवारों को ही चुनाव लड़ाया जाएगा।जस्टिस कर्णन यहां कुछ मानवाधिकार संगठनों की तरफ से आयोजित कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे। उन्होंने कहा, हमने मुख्य चुनाव आयुक्त से अपनी पार्टी के पंजीकरण का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि मेरा लक्ष्य देश से भ्रष्टाचार को मिटाना है।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।