केंद्र ने लगाई मुहर, विमान हादसे हुई नेताजी की मौत


नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने एक आरटीआई का जवाब देते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत साल 1945 में ताइवान में हुए एक प्लेन हादसे में हुई थी। केंद्रीय गृहमंत्रालय द्वारा दिए गए आरटीआई के जवाब पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवार ने नाराजगी जताई है।

नेताजी के पोते चंद्र कुमार बोस ने कहा कि यह काफी गैर जिम्मेदाराना है, केंद्र सरकार इस तरह का जवाब कैसे दे सकती है, जबकि मामला अभी भी सुलझा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘मैं इस पूरे मामले को पीएम नरेंद्र मोदी के पास ले जाऊंगा। उन्होंने ही 70 साल बाद फाइल को सार्वजनिक किया था।’ बोस का कहना है कि पीएम के साथ हुई बैठक में उन्होंने मौत के रहस्य का हल और इसके तार्किक निष्कर्ष तक पहुंचाने का वादा किया था।

यह आरटीआई सायक सेन नामक व्यक्ति ने दायर की थी, जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने अपना जवाब भेजा है. RTI के जवाब में साफ तौर पर कहा गया है कि नेताजी की मौत 18 अगस्त 1945 को हुई थी।

नेताजी की मौत से जुड़ी 37 फाइलें जारी की थी, जिसमें पेज नंबर 114-122 पर इसकी जानकारी दी गई है। इस जवाब में शाहनवाज कमेटी, जस्टिस जी.डी. खोसला कमीशन, और जस्टिस मुखर्जी कमीशन की रिपोर्ट का हवाला दिया गया है।