एक महीने में 25 गिरफ्तार


जगदलपुर: ओडिशा के मलकानगिरी, चांदमेटा और शबरी नदी के किनारे नक्सली बड़े पैमाने पर गांजा की खेती करवा रहे हैं। यहां गांजा की खेती से लेकर इस कारोबार को नक्सलियों ने संरक्षण दे रखा है। नक्सलियों के द्वारा पैदा किए जाने वाला यह गांजा पूरे देश के युवाओं को नशे के लिए बांटा जा रहा है। पुलिस कंट्रोल रूम में गांजे के इस कारोबार का खुलासा करते हुए एएसपी अभिषेक पाटले, एसडीओपी निमेश बरोईया और क्राइम ब्रांच के विश्वजीत ने बताया कि ओडिशा के कुछ पहाड़ी इलाकों और शबरी नदी तट पर नक्सली बड़ी मात्रा में गांजा की खेती करवा रहे हैं।

गांजा की खेती के लिए नक्सली बड़ी रकम भी लेवी के तौर पर ले रहे हैं जिसका उपयोग वे अपने संगठन को चलाने के लिए कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस मामले में गांजा की खेती करने वाले और इन्हें खेती के लिए प्रश्रय देने वाले नक्सलियों पर ओडिशा पुलिस के साथ कोआर्डिनेशन बनाकर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। आने वाले दिनों में पुलिस की संयुक्त टीम इन स्थानों पर कार्रवाई करेगी। बस्तर पुलिस ने बीते एक महीने में देश के अलग-अगल कोने से गांजा तस्करी के लिए बस्तर पहुंचे 25 लोगों को गिरफ्तार किया है।

इनके पास से करीब आठ क्विंटल गांजा जिसकी कीमत 20 लाख रुपए है जब्त किया गया। इसके अलावा 6 लग्जरी गाडिय़ां भी गांजा तस्करी के दौरान पकड़ी गई हैं। पुलिस ने नक्सलियों के गांजा के कारोबार में संलिप्त होने का खुलासा गांजा तस्करी करते पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ के आधार पर किया है।  पिछले एक महीने में गांजा तस्करी के नगरनार, बोधघाट, क्राइम ब्रांच, भानपुरी, बस्तर चौकी पुलिस ने कई मामले बनाए हैं।